बीहड़ में तो बागी होते हैं, डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट मां-इरफ़ान खान के वो डायलॉग जो हमेशा याद रहेंगे

बॉलीवुड अभिनेता इरफ़ान खान का आज बुधवार के दिन मुंबई के कोकिला बेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वो लंबे समय से कैंसर की जंग लड़ रहे थे। कल मंगलवार के दिन उनकी तबियत ज्यादा बिगड़ गई थी ,जिसके बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया था।

हालांकि,कल देर रात तक उनकी हालत स्थिर होने की खबर थी। जिसकी पुष्टि उनके आधिकारिक प्रवक्ता ने की थी। लेकिन आज 11 बजे के करीब उन्होंने अस्पताल में अंतिम सांस ली।

इरफ़ान खान ने अपने अभिनय और डायलॉग्स से लोगों का खूब दिल जीता है। वो अपने किरदार को निभाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते थे। फिल्मों में उनका अभिनय ही नहीं उनके डायलॉग भी दर्शकों को काफी प्रभावित करते थे। दिवंगत अभिनेता, अभिनय में आवाज से ज्यादा आंखों का इस्तेमाल किया करते थे। उनके कुछ डायलॉग ऐसे हैं जो हमेशा याद रखे जाएंगे।

इरफ़ान खान के हिट डायलॉग

  1. पान सिंह तोमर मूवी , ” बीहड़ में बागी होते हैं ,डकैत मिलते हैं पार्लियामेंट मां। “
  2. साहेब बीबी और गैंगस्टर , ” हमारी तो गाली पर भी ताली पड़ती है। “
  3. तलवार फिल्म ,” किसी भी बेगुनाह को सजा मिलने से अच्छा है दस गुनहगार छूट जाएं। “
  4. कसूर , ” आदमी जितना बड़ा होता है ,उकसे छुपने की जगह बहुत कम होती है। “
  5. चॉकलेट ,” शैतान की सबसे बड़ी चाल ये है कि वो सामने नहीं आता। ‘
  6. लाइफ इन मेट्रो ,” ये शहर हमें जितना देता है ,बदले में कहीं ज्यादा हमसे लेता है। “
  7. पिकू ,” डेथ और शिट किसी को ,कहीं भी ,कभी भी आ सकती है। “
  8. मदारी ,” तूम मेरी दुनिया छीनोगे ,मैं तेरी दुनिया में घुस जाऊंगा। “
  9. हासिल ,” और जान से मार देना बेटा ,हम रह गए ना ,मारने में देर नहीं लगाएंगे ,भगवान कसम। “
  10. ये साली जिंदगी ,” लोग सुनेगे तो क्या कहेंगे ,चु#@%& आशिकी के चक्कर में मर गया और लौंडिया भी नहीं मिली। “

Comments

Translate »