जीएसटी काउंसिल का फैसला,अप्रैल महीने से मोबाइल फोन हो जाएंगे महंगे

अगले महीने, अप्रैल 2020 में मोबाइल फोन और महंगे हो जायेंगे। सरकार ने मोबाइल फोन पर जीएसटी बढ़ा दिया है।ये फैसला जीएसटी कौंसिल की बैठक में लिया गया।

सरकार ने विमानों में रख-रखाव संबंधी सेवाओं पर जीएसटी घटा दिया है। जीएसटी काउंसिल मैं 2 करोड तक का कारोबार करने वाली इकाइयों को पिछले 2 वर्षों से रिटर्न भरने में विलंब होने पर राहत दे दी है।

जीएसटी परिषद ने मोबाइल फोन पर जीएसटी की दर 12% से बढ़ाकर 18% कर दी है। यह वृद्धि 1 अप्रैल से लागू होगी। जिसके चलते मोबाइल हैंडसेट और महंगे हो जाएंगे। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में शनिवार के दिन दिल्ली में हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने जीएसटी परिषद की बैठक के बाद बताया कि परिषद ने विमानों के रखरखाव, रिपेयर और ओवर हाल सेवाओं पर जीएसटी की दर को 18 से घटाकर 5 फ़ीसदी कर दिया है। जीएसटी परिषद ने हस्त निर्मित मशीनों, दोनों तरह की माचिस की तीलियों पर जीएसटी की दर को समान रूप से 12% कर दिया है।

इस बैठक में 2 करोड रुपए से कम कारोबार वाली यूनिटों को वित्त वर्ष 2017-18 , 2018 -19 के लिए वार्षिक रिटर्न भरने में देरी पर लागू लेट फ़ीस को माफ़ करने का फैसला लिया है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि परिषद ने इंफ़ोसिस से जीएसटी नेटवर्क में अधिक दक्ष कर्मचारी लगाने, जीएसटी नेटवर्क की क्षमता को बढ़ाने के लिए कहा गया है। ताकि इस प्रणाली को किसी तरह की बाधा से मुक्त किया जा सके। इंफोसिस ने जीएसटीएन को डिज़ाइन किया है। जीएसटी परिषद ने कंपनी से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि जुलाई 2020 तक यह प्रणाली अधिक बेहतर तरीके से काम करना शुरू कर दें।

Comments

Translate »