हिंदू महासभा प्रदेश अध्यक्ष रणजीत बच्चन हत्याकांड के बारे में पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

रणजीत बच्चन हत्याकांड का खुलासा

पत्नी स्मृति ने करवाई हत्या

मुख्य आरोपी अभी भी फ़रार है

पुलिस कमिश्नर सुजीत कुमार पांडेय ने पत्रकारों को बताया कि विश्व हिंदू महासभा के नेता रणजीत बच्चन को दीपेंद्र के चचेरे भाई जितेंद्र ने गोली मारी थी। जोकि अभी फ़रार चल रहा है। पुलिस उसकी तलाश में दबिश दे रही है।

उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के हजरतगंज इलाके में विश्व हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष रणजीत श्रीवास्तव बच्चन की हत्या के मामले में गुरुवार के दिन पुलिस ने उनकी पत्नी स्मृति वर्मा उसके प्रेमी और मुख्य आरोपी दीपेंद्र तथा उसके कार ड्राइवर संजीत को गिरफ्तार कर इस हत्याकांड का खुलासा किया है।

पुलिस आयुक्त सुजीत कुमार पांडेय ने एक पत्रकारवार्ता में बताया की रणजीत को जितेंद्र ने गोली मारी थी। जो अभी फ़रार चल रहा है ,पुलिस की टीमें उसकी तलाश में दबिशें दे रही है। हत्या के आरोपी जितेंद्र पर पुलिस ने 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। मृतक रणजीत की पत्नी स्मृति वर्मा जवाहर भवन के कोषागार में कनिष्ठ लिपिक के पद पर कार्यरत है।

पुलिस कमिश्नर पांडेय ने बताया कि स्मृति के प्रेमी दीपेंद्र ने रणजीत बच्चन की हत्या के लिए उसे उकसाया था। स्मृति की गिरफ्तारी उसके लखनऊ के विकास नगर स्थित आवास से हुई है।

पांडेय ने बताया की स्मृति का प्रेमी दीपेंद्र ही रणजीत का कातिल है। इस वारदात में स्मृति भी शामिल है। क्योंकि वह रणजीत बच्चन से छुटकारा पाकर दीपेंद्र के साथ रहना चाहती थी।

स्मृति रणजीत की दूसरी पत्नी है। इससे पहले रणजीत के ससुराल वालों ने बताया था कि उनके दामाद एक ही घर में पत्नी और प्रेमिका को रखे हुए हैं। अवैध संबंधों के चलते पति-पत्नी में अनबन भी हुई थी। रणजीत पहली पत्नी को धमकाते भी थे। जिससे परेशान होकर पत्नी ने महिला थाने में शिकायत भी दर्ज करवाई थी।

रणजीत बच्चन ने साल 2015 में खुद को अविवाहित बताकर विकास नगर के सेक्टर 2 के आर्य समाज मंदिर में स्मृति वर्मा से शादी की थी। जिसके कुछ महीने बाद स्मृति को पता चला कि रणजीत पहले से शादीशुदा है और उनकी पहली पत्नी का नाम कालिंदी है। इसके बाद दोनों में अनबन शुरू हो गई थी। हालांकि स्मृति ने एक बच्चे को भी जन्म दिया है।

Comments

Translate »