अंतरिक्ष यात्री स्पेस में टॉयलेट कैसे जाते हैं ?

बहुत कम लोग जानते होंगे कि एस्ट्रोनॉट्स अंतरिक्ष में टॉयलेट कैसे जाते हैं ? आइए आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बताते हैं ।

अंतरिक्ष यात्रा के बारे में बेहद रोचक जानकारी

आप चाहे जमीन पर एक गड्ढे कर उपयोग करें या फिर पृथ्वी पर एक फैंसी सोना चढ़ाया हुआ शौचालय इस्तेमाल करें गुरुत्वाकर्षण आपके कचरे को नीचे और आपसे दूर खींचता है । अंतरिक्ष यात्रियों के लिए यह काम करना थोड़ा अधिक जटिल है । अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण ना होने की वजह से आपके द्वारा किया गए पेशाब की बूंद शौचालय से बाहर तैर सकती है । यह अंतरिक्ष यात्रियों की सेहत के लिए सही नहीं है ना ही अंतरिक्ष स्टेशन के अंदर संवेदनशील उपकरणों के लिए ।

पहले अंतरिक्ष यात्री ने स्पेससूट में ही कर दिया था पेशाब

वर्ष 1961 में एलेन शेफर्ड (Alan Shepard )  अंतरिक्ष में पहले अमेरिकी यात्री पहुंचे थे । पहली अंतरिक्ष यात्रा के समय को कम किया जाना था इसीलिए पेशाब करने की कोई योजना नहीं थी । लेकिन शेफर्ड को राकेट में चढ़ने के बाद अंतरिक्ष यान के प्रक्षेपण के 3 घंटे से अधिक देरी हुई आखिरकार उसने अंदर बैठे हुए पूछ ही लिया कि क्या राकेट से बाहर निकल कर पेशाब कर सकते हैं ?  ज्यादा समय बर्बाद ना करते हैं मिशन नियंत्रण ने निष्कर्ष निकाला कि शेफर्ड सुरक्षित रूप से अपने स्पेससूट के अंदर पेशाब कर सकता है । अंतरिक्ष में पहला अमेरिकी नम अंडरवियर ऊपर गया था।

सौभाग्य से इन दिनों अंतरिक्ष स्टेशन पर एक शौचालय है । शौचालय दो हजार पुरुषों के लिए डिजाइन किया गया था  और महिलाओं का उपयोग करना थोड़ा मुश्किल था । शौचालय इस ढंग से डिजाइन किया गया था कि के पेशाब खड़े होकर करना पड़ता था । शौच से निवृत होने के लिए यात्रियों को छोटे टॉयलेट पर बैठने और अपनी जांघों पर पट्टियों का इस्तेमाल करना पड़ता था । यह इसलिए किया जाता था ताकि शौच करते समय इधर उधर ना हिले । पट्टियों का इस्तेमाल बहुत अच्छी तरह से काम नहीं करता था और इसे साफ रखना बहुत मुश्किल था ।

अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन में नया शौचालय

साल 2018 में नासा ने अंतरिक्ष स्पेस स्टेशन पर यात्रियों के लिए नए और बेहतर शौचालय बनाने के लिए 23 मिलियन अमेरिकी डॉलर खर्च किए । शून्य गुरुत्वाकर्षण वाले बाथरूम टूटने की समस्याओं के आसपास आने के लिए नए शौचालय एक विशेष रूप से डिजाइन किया गया वह शौचालय है जिसके 2 भाग होते हैं । पेशाब करने के लिए फनल के साथ एक नाली और टॉयलेट करने के लिए छोटा उठा हुआ टॉयलेट सीट है ।

स्पेस में बनाए गए टॉयलेट में हाथ से पकड़ने वाले कुंडे लगाए गए ,ताकि अंतरिक्ष यात्री अपने शौच के बीच इधर उधर ना हिले।  पेशाब करने के लिए हुए बैठ सकते हैं या खड़े हो सकते हैं । फिर उनकी त्वचा के खिलाफ की और नली को कसकर पकड़ सकते हैं । ताकि कुछ भी लीक न हो । नए शौचालय में अंतरिक्ष यात्री सीट का ढक्कन उठाते हैं और सीट पर बैठते हैं । ठीक उसी तरह जैसे यहां पृथ्वी पर । लेकिन चीजों को बहने से रोकने के लिए और बदबू को नियंत्रित करने के लिए ढक्कन को उठाते हुए शौचालय मल को सोखना शुरू कर देता है । यह सुनिश्चित करने के लिए की सीट और अंतरिक्ष यात्रियों के बीच एक चुस्त-दुरुस्त जगह है । यह टॉयलेट सीट आपके घर की तुलना में छोटी है ।

पेशाब को किया जाता है रिसाइकल

बता दे, पेशाब में 90% से अधिक पानी है । क्योंकि पानी भारी है और बहुत अधिक जगह लेता है। इसीलिए पृथ्वी से साफ पानी लाने के बजाय पेशाब को रिसाइकल करना बेहतर है । सभी अंतरिक्ष यात्री पेशाब को इकट्ठा करके वापस स्वच्छ पीने के पानी में बदल देते हैं । अंतरिक्ष यात्रियों का कहना है कि आज की कॉफी ही कल की कॉफी है।

कभी-कभी अंतरिक्ष यात्री लैट्रिन को वैज्ञानिक अध्ययन के लिए पृथ्वी पर वापस लाते हैं । लेकिन अधिकांश समय बाथरूम का कचरा जिसमें मल शामिल है जला दिया जाता है । पुरे को कचरे के थैलों में वैक्यूम किया जाता है । जिन्हें एयरटाइट कंटेनर में डाल दिया जाता है । अंतरिक्ष यात्री टॉयलेट पेपर वाइपर और दस्ताने भी रखते हैं । दस्ताने कंटेनर में भी सब कुछ साफ रखने में मदद करते हैं । इसके बाद कंटेनर को एक मालवाहक जहाज में लोड किया जाता है । जो  अंतरिक्ष स्टेशन में आपूर्ति लाता है और यह जहाज पृथ्वी  पर लांच किया जाता है और पृथ्वी के ऊपरी वातावरण में जल जाता है ।

यदि आपने कभी एक जलते हुए तारे को देखा होगा तो यह पृथ्वी के वायुमंडल में जलता हुआ उल्कापिंड हो सकता है या फिर यह अंतरिक्ष यात्री मल हो सकता है ।

Comments Cancel reply

Translate »
Exit mobile version