जानिए डायबिटीज़ के लक्षण, उपचार और बचाव

डायबिटीज़ का अगर शुरू में ही इलाज न करवाया जाए तो यह आपके लिए खतरनाक साबित हो सकती है। जानिए ऐसे लक्षण जो इस बीमारी की तरफ इशारा करते हैं। अगर आप में ये लक्षण पाए जाते हैं तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें और चेकअप करवाएं।

पिछले कई सालों से भारत में डायबिटीज़ का खतरा काफी बढ़ गया है। हर साल डायबिटीज़ के करोड़ों मामले देखने को मिलते हैं। डायबिटीज़ तीन तरह की होती है ,टाइप 1 ,टाइप 2 और गेस्टेशनल डायबिटीज़।

डायबिटीज़ कई कारणों जैसे खराब जीवन स्तर , तनाव ,तंबाकू ,बीड़ी-सिगरेट का सेवन और कई बार ये पैतृक भी होती है।

जानिए डायबिटीज़ के लक्षण

  • अगर पर्याप्त मात्रा में पानी पीने बाद भी आपको जल्दी-जल्दी प्यास लगे तो समझ लीजिए ,आप इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं।
  • अगर आपको बार-बार पेशाब लगे और थोड़ा-थोड़ा लगे तो समझ लीजिए डायबिटीज़ की बीमारी शुरू हो चुकी है।
  • पहले की अपेक्षा ज्यादा भूख लगना ,वजन ज्यादा बढ़ना या ज्यादा कम होना भी डायबिटीज़ के लक्षण हैं।
  • 8-9 घंटे की नींद लेने के बाद भी अगर आपका सिर भारी रहता है और नींद पूरी न होने जैसा महसूस होता है तो ये डायबिटीज़ के लक्षण हो सकते हैं।
  • अगर आपके शरीर में किसी घाव या चोट को भरने में ज्यादा समय लगता है तो आपके शरीर में शुगर लेवल बढ़ गया और आप डायबिटीज़ के शिकार हो चुके हैं।

डायबिटीज़ से बचने के लिए तली हुई चीजें ,अधिक मसालेदार खाना खाने से परहेज करें।अधिक मीठे का सेवन न करें। तनाव से बचें। सुबह खाली पेट कच्चे लहसुन की दो ‘कलियां’ चबा-चबाकर खाएं। नियमित योग और कसरत करें। खाना खाने के बाद थोड़ा टहल लें। खाना खाते समय ज्यादा अपनी न पिएं। खाना से आधे घंटे पहले थोड़ा पानी पी लें। खाना खाने के बाद दो घंटे तक पानी न पिएं। हरी सब्जियों और फलों का सेवन करें। बीमारी के अधिक बढ़ने पर डॉक्टर की निगरानी में उपचार करवाएं।

Comments

Translate »