Site icon www.4Pillar.news

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में नही जाएंगी ममता बनर्जी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में नही जाएंगी ममता बनर्जी

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक पत्र लिखकर कहा कि भारतीय जनता पार्टी इस शपथ ग्रहण समारोह में चुनाव के दौरान बंगाल मारे कार्यकर्ताओं के परिवार वालों को

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक पत्र लिखकर कहा कि भारतीय जनता पार्टी इस शपथ  ग्रहणसमारोह में चुनाव के दौरान बंगाल मारे कार्यकर्ताओं के परिवार वालों को बुलाया है और इसे राजनीतिक हत्या करार दिया है। ममता ने लिखा कि ये राजनीतिक हत्याएं नही हैं बल्कि आपसी रंजीश के मामले हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से ठीक एक दिन पहले सियासी हलचल तेज हो गई हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शपथ ग्रहण समारोह में आने से इंकार कर दिया है। इससे पहले ममता बनर्जी समारोह में आने के लिए तैयार थी। ममता ने एक पत्र ट्विटर पर साँझा किया है। जिसमें लिखा ,भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल में मारे गए कार्यकर्ताओं के परिवार वालों को समारोह में बुलाया है। ममता ने लिखा कि ये राजनीतिक हत्याएं नही हैं बल्कि आपसी रंजीश के मामले हैं।

ममता बनर्जी ने ने पत्र में लिखा,बधाई,नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी। आपके संवैधानिक आमंत्रण को मैंने स्वीकार कर लिया था। मैं आपके शपथ ग्रहण समारोह में आने के लिए तैयार भी थी। पिछले कुछ समय से मैंने रिपोर्टें देखी हैं जिनमें भारतीय जनता पार्टी कह रही है कि उसने पश्चिम बंगाल में मारे गए 54 कार्यकर्ताओं के परिवार वालों को भी निमंत्रण दिया है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लिखा ,ये बिलकुल झूठ है, पश्चिम बंगाल में कोई राजनीतिक हत्या नही हुई है। ये हत्याएं पारिवारिक लड़ाई ,आपसी रंजीश और अन्य दूसरे मामलों के कारण हुई हैं। इन हत्याओं का राजनीती से कुछ भी संबंध नहीं है ,ऐसा कोई रिकॉर्ड भी नही है। ममता ने लिखा सॉरी नरेंद्र मोदी जी, इसी कारण मैं आपके शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाउंगी। ये समारोह लोकतंत्र का जश्न मनाने वाला है लेकिन किसी एक राजनीतिक पार्टी को नीचा दिखाने वाला नही है। कृपया मुझे क्षमा करें।

आपको बता दें, लोक सभा चुनाव 2019 में भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल में रिकॉर्ड तोड़ जीत हासिल की है। बीजेपी ने राज्य की 18 सीटों पर जीत हासिल की है। जबकि टीएमसी ने 22 सीटें जीती है।

Exit mobile version