एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा- दिल्ली को सांप्रदायिक दंगों से बचाने में असफल रहे अमित शाह

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के चीफ शरद पवार ने कहा कि दिल्ली में जो घटनाएं होती है उसका असर पूरे देश पर होता है। दिल्ली दंगों के कारण जो तस्वीर सामने आई है उससे गलत संदेश जा रहा है। शरद पवार के अलावा कार्यक्रम में मौजूद एनसीपी नेता छगन भुजबल और महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री ने भी केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी पर जमकर निशाना साधा।

शरद पवार ने पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राजनीति में हार जीत होती रहती है लेकिन सत्ता को दिमाग में नहीं बिठाना चाहिए। पवार ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं का संकुचित विचार देश हित के लिए नहीं है। शरद पवार ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केंद्र की जांच एजेंसियों सीबीआई और ईडी की कार्रवाई का डर दिखाकर जनप्रतिनिधियों को धमकाया जाता है। लेकिन राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और कार्यकर्ता इन का करारा जवाब देंगे।

विदेशी नेता गुजरात जा रहे हैं

उन्होंने कहा कि मैंने इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, पीवी नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह का कार्यकाल देखा है। जब देश में दूसरे देश के नेता आते थे तो वह दिल्ली कोलकाता हैदराबाद जाते थे। लेकिन अब स्थिति कुछ अलग है। अब जो भी विदेशी नेता भारत आता है वह भारत आते ही सबसे पहले गुजरात जाता है।

उन्होंने कहा मुझे खुशी है कि अंतरराष्ट्रीय नेता गुजरात का दौरा कर रहे हैं लेकिन चाहे वह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड , ट्रंप चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग यूनाइटेड किंगडम के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन हो सभी को गुजरात ले जाया गया है। किसी दूसरी जगह पर नहीं। इससे यह प्रतीत होता है कि दिल्ली के शासक दूसरे राज्यों के बारे में क्या सोचते हैं। शरद पवार ने यह बातें शनिवार के दिन कोल्हापुर के  मैदान में संवाद संकल्प सभा का आयोजन करते हुए कही।

अमित शाह पर साधा निशाना

कार्यक्रम के दौरान शरद पवार ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर भी निशाना साधा और कहा कि देश की राजधानी दिल्ली को सांप्रदायिक दंगों से बचाने में विफल रहे हैं।  इसी महीने की शुरुआत में हनुमान जयंती के जुलूस के दौरान दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में हुई हिंसा का जिक्र करते हुए शरद पवार ने कहा कि दिल्ली सांप्रदायिक तनाव के कारण जल रही थी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा नियंत्रित है लेकिन दिल्ली की पुलिस अमित शाह के कंट्रोल में है।

पवार ने कहा,” अगर दिल्ली में कुछ होता है तो दुनिया में क्या संदेश जाएगा ? दुनिया सोचेगी कि दिल्ली में अशांति है। दिल्ली हमारी राष्ट्रीय राजधानी है और इसके कुछ हिस्सों में झड़पें हुई लोगों ने एक दूसरे पर हमला किया और आगजनी हुई। उन्होंने कहा कि अमित शाह को दिल्ली को एकीकृत और अविभाजित रखने के लिए कदम उठाने चाहिए थे लेकिन वह ऐसा करने में असफल रहे।

Comments

Translate »