सकारात्मक सोच की झूठी तसल्ली उन परिवारों के लिए मजाक हैं जिन्होंने अपनों को खोया है, राहुल गाँधी का केंद्र पर निशाना 

भारत में कोरोना महामारी का कहर जारी है । इसी को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधा है । उन्होंने कहा कि “रेत में सर डालना सकारात्मकता नहीं बल्कि देशवासियो के साथ धोखा है “.

कोरोना वायरस महामारी के कारण देश में गंभीर हालात बने हुए हैं। राहुल गाँधी ने पहले भी कई बार वैक्ससीनेशन, अस्पतालों में ऑक्सीज़न की कमी और अन्य कारणों से केंद्र सरकार पर सवाल उठाये हैं। अब एक बार फिर राहुल गाँधी ने ट्वीट के जरिये केंद्र पर हमला बोला है।

अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा “सकारात्मक सोच की झूठी तसल्ली स्वास्थ्य कर्मचारियों व उन परिवारों के साथ मजाक है। जिन्होंने अपनों को खोया है और ऑक्सीज़न-अस्पताल-दवा की कमी झेल रहे हैं। रेत में सर डालना सकारात्मकता नहीं, देशवासियो के साथ धोखा है”।

उन्होंने अपने ट्वीट के साथ एक आर्टिकल भी शेयर किया है जिसमे बताया गया है कि मोदी सरकार अब सकारात्मक बाते करने पर जोर देगी और डेली बुलिटेन में भी कोविड टेस्ट पॉजिटिव की जगह नेगटिव केसेस को बताया जायेगा।

बता दे कि पहले भी राहुल गाँधी कई मुद्दों जैसे देश की बिगड़ती आर्थिक स्थिति, वैक्सीन,ऑक्सीज़न की समस्या आदि को लेकर केंद्र सरकार पर सवाल उठा चुके हैं। हाल ही में उन्होंने कोरोना वैक्सीन पर राज्य सरकारों से टैक्स वसूलने को लेकर पीएम मोदी पर सवाल उठाया था। उन्होंने कहा था कि  “जनता के प्राण जाए पर PM की टैक्स वसूली न जाए” दरअसल केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीन पर राज्यों से 5 फीसदी की दर से टैक्स वसूल रही थी जिसका विरोध उन्होंने किया था।

Comments

Translate »