पनामा पेपर्स: भारत में RTI से 20 हजार करोड़ रूपये की अघोषित संपत्ति का हुआ खुलासा

CBDT ने एक RTI के जवाब में पनामा पेपर्स मामले में चौंकाने वाली जानकारी दी है । पनामा पेपर्स में अमिताभ बच्चन ,ऐश्वर्या राय बच्चन , उद्योपति समीर गहलोत और DLF के प्रमुख केपी सिंह सहित करीब 500 भारतीयों के नाम हैं ।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, सीबीडीटी ने एक आरटीआई के जवाब में बताया कि विभाग द्वारा जून 2021 तक पनामा पेपर्स से जुड़े 20078 करोड़ रूपये की अघोषित आय का पता चला है । बता दें , इंडियन एक्सप्रेस भी पनामा पेपर्स ग्लोबल इन्वेस्टिगेशन टीम का हिस्सा था । जिसने भारत में इस मामले से जुड़े कई खुलासे किए थे । ग्लोबल इन्वेस्टीगेशन टीम की अगुवाई ICIJ नाम की संस्था ने की थी ।

दरअसल , साल 2016 में यूएस स्थित दुनिया भर के 100 मीडिया संस्थानों के एक संगठन आईसीआईजे ने पनामा की लॉ फर्म मोसैक फोंसेका प्राप्त किए गए लगभग 1.15 करोड़ गुप्त दस्तावेजों के जरिए छिपाई गई संपत्ति का खुलासा किया था । जिसके बाद दुनिया भर के राजनीती में भूचाल आ गया था ।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ डायरेक्ट टैक्सेज ने पनामा पेपर्स मामले में कार्रवाई को लेकर लेटेस्ट डाटा प्रस्तुत किया है । गत माह देश की विभिन्न अदालतों में काला धन और आयकर अधिनियम के तहत 46 केस दायर किए हैं । वहीँ 83 मामलों की तलाशी की गई है । CBDT ने IE को बताया कि अब इन संपत्तियों पर टेक्स लगना शुरू हो गया है । आरटीआई में खुलासा हुआ कि सीबीडीटी ने उन लोगों से 142 करोड़ रूपये का टैक्स वसूल किया है , जिनके खिलाफ केस चल रहे हैं ।

पनामा पेपर्स ऐसे कागजात हैं , जो पनामा की क़ानूनी फर्म और कारपोरेट सेवा प्रदाता कंपनी मोसैक फोंसेका द्वारा बनाए गए हैं । साल 2015 में एक गुप्त सोर्स द्वारा लीक किए गए इन पेपर्स में विभिन्न ऑफशोर संस्थाओं की वित्तीय , वकील-ग्राहक जानकारी शामिल है । इन दस्तावेजों में दुनिया भर के कई प्रमुखों , खिलाडियों , अभिनेताओं , व्यापारियों और अपराधियों के नाम दर्ज हैं ।

Comments

Translate »