वैज्ञानिकों ने बनाया दुनिया का सबसे बारीक़ सोना, जानिए क्या है खास

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ़ लीडस के अनुसंधानकर्ताओं ने गोल्ड की मोटाई 0.47 नेनो मीटर मापी है। इस तत्व को 2 डी बताया गया है क्योंकि इसके ऊपर एक के बाद एक दो अणुओं की परत है।

लंदन में वैज्ञानिकों ने दुनिया का सबसे पतला सोना (Gold) तैयार किया है। ये सिर्फ दो अणुओं के बराबर पतला है। आम भाषा में इसे ऐसे भी समझा जा सकता है कि यह इंसान के नाख़ून से दस लाख गुणा पतला है।

इस गोल्ड का इलेक्ट्रॉनिक उद्योग और चिकित्सा के क्षेत्र में व्यापक इस्तेमाल हो सकता है। लैब में किए गए परीक्षण से पता चला है कि यह गोल्ड उत्प्रेरक के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले स्वर्ण नेनोकणों की तुलना में अधिक प्रभावी है।

एडवांस्ड साइंस जर्नल में छपे लेख के अनुसार, शोधकर्ताओं का कहना है कि यह वर्तमान में उपयोग किए जाने वाले सोने के नेनो कणों की तुलना में 10 गुणा अधिक कुशल है।

इससे पहले, अनुसंधान ने दिखाया है कि सोना रासायनिक प्रतिक्रियाओं को तेज कर सकता है। सोना आकर्षक है क्योंकि यह ‘संक्षारण’ का प्रतिरोध करता है, इसमें उच्च विद्युत चालकता होती है और इसमें चिकित्सा अनुप्रयोगों या दवा वितरण में उपयोग किए जाने वाले प्लेटिनम के समान हानिकारक दुष्प्रभाव नहीं होते हैं।

सनजी  ने एडवांस्ड साइंस जर्नल से कहा, “यह काम एक ऐतिहासिक उपलब्धि है,” लीड्स विश्वविद्यालय के आण्विक और ‘नेनोस्केल’ भौतिकी समूह के अध्ययन लेखक और ‘पोस्टडॉक्टरल’ रिसर्च फेलो ने कहा। “यह न केवल इस संभावना को दिखाता है कि मौजूदा प्रौद्योगिकीय क्षेत्र में सोने का अधिक कुशलता से उपयोग किया जा सकता है, यह एक मार्ग प्रदान कर रहा है जो भौतिक वैज्ञानिकों को अन्य 2डी धातुओं को विकसित करने की अनुमति देगा। यह विधि ‘नेनोमैटेरियेट’ विनिर्माण का नवाचार कर सकती है।”

Comments

Translate »