8 लड़कियों के साथ सोने और ट्रेनों में धक्के खाने के बाद मिली ‘पल पल दिल के पास’ फिल्म :सहर

अभिनेता से नेता बने सनी देओल के बेटे करण देओल की फिल्म ‘पल पल दिल के पास’ इन दिनों चर्चा में है। करण देओल की ये फिल्म 20 सितंबर को रिलीज हो रही है। इस फिल्म में करण देओल के साथ अभिनेत्री सहर बाम्बा लीड रोल में है। फिल्म पल पल दिल के पास से करण देओल और सहर बाम्बा बॉलीवुड में डेब्यू कर रहे हैं। अभिनेत्री सहर बाम्बा ने अपने स्ट्रगल के दिनों के बारे में एक इंटरव्यू में खुलासा किया।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए गए इंटरव्यू में सहर बाम्बा ने कहा,” मुंबई आना एक बहुत बड़ा रिस्क था। क्योंकि यहां न मेरा कोई दोस्त था और न ही कोई रिश्तेदार। मेरे पास कोई फ़िल्मी कनेक्शन भी नही था। मैं हमेशा से के अभिनेत्री बनना चाहती थी। सौभाग्य से मेरे माता-पिता बहुत सपोर्टिव थे। मेरे स्ट्रगल की बात करूं तो वो मुंबई आने से ही शुरू हो गया था। ”

सहर बाम्बा ने आगे बताया ,” मुझे एक अच्छे कॉलेज में ऐड्मिशन लेना था। साथ खान-पान और रहने की व्यवस्था भी करनी थी। जो सबसे बड़ी परेशानी थी।आख़िरकार मुझे एक कमरा मिला। जिसमें मुझे 8 लड़कियों के साथ सोना पड़ा।इसके अलावा यात्रा करना भी बड़ा इश्यू था। मैं लोकल ट्रेन में यात्रा करने की आदि नहीं थी। लेकिन धीर्रे-धीरे मुझे इसकी आदत पड़ गई। कॉलेज के बाद ऑडिशन के लिए मैं डेली चर्चगेट से आरएम नगर तक सफर करने लगी।”

सहर बाम्बा ने कहा,” यहां सबसे बड़ी मुश्किल थी कि किस से मिलूं ,कहां मिलूं। इस दौरान में हर अच्छे बुरे इंसान से मिली। जिन्होंने मुझे झूठी उम्मीदें दिलाई और झूठे वादे किए। हालांकि किस्मत से मैं कभी कास्टिंग काउच का शिकार नहीं हुई। 8 महीने बाद मेरा स्ट्रगल खत्म हुआ और मुझे पल पल दिल के पास फिल्म मिली। “

Comments

Translate »