NSE कि पूर्व सीईओ चित्रा रामकृष्ण को सीबीआई ने किया गिरफ्तार, हिमालयन बाबा के साथ साझा करती थी संवेदनशील जानकारियां

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की पूर्व सीईओ चित्रा रामाकृष्ण को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। चित्रा रहस्यमई बाबा के साथ संवेदनशील जानकारियां साझा करती थी।

NSE की पूर्व सीईओ चित्रा रामाकृष्णन को केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी से पहले CBI उनसे कई बार पूछताछ कर चुकी थी। चित्रा ने यह कहकर सनसनी फैला दी थी कि वह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के मामलों में हिमालयन योगी के साथ जानकारियां साझा करती थी। हालांकि बाद में उस योगी की पहचान आनंद सुब्रमण्यम के रूप में हुई। इससे पहले सीबीआई ने आनंद सुब्रमण्यम को भी गिरफ्तार कर लिया था। चित्रा ने आनंद सुब्रमण्यन को अपने सहयोगी के तौर पर मोटे वेतन पर रखा था।

सेबी ने किया था खुलासा

SEBI ने चित्रा रामकृष्ण पर गोपनीय जानकारियां लीक करने का आरोप लगाया था। एनएससी की पूर्व चीफ चित्रा  रामकृष्ण के बारे में इस खुलासे के बाद शेयर मार्केट में भूचाल आ गया था। इस घोटाले की जांच में देरी को लेकर भी काफी लोगों ने सवाल उठाए। रामकृष्ण के ईमेल की जांच पड़ताल से इस पूरी घटना का पता चला था और जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी।

हिमालय योगी की पहचान हुई

एनएससी की पूर्व प्रमुख चित्रा रामकृष्ण के फैसलों को कथित तौर पर प्रभाव डालने वाले हिमालय योगी की पहचान उनके सहयोगी आनंद सुब्रमण्यम के रूप में हुई है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के इस पूर्व अधिकारी को शेयर बाजार में धोखाधड़ी मामले में सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। केंद्रीय जांच ब्यूरो के सूत्रों ने पिछले हफ्ते कहा था कि एनएससी का पूर्व अफसर आनंद सुब्रमण्यम ही वह योगी था जिसने ईमेल के जरिए चित्रा रामकृष्ण के साथ तमाम संवेदनशील जानकारियां साझा की थी।

सुब्रमण्यम ही हिमालयन बाबा निकला

सेबी ने कहा था कि आनंद सुब्रमण्यन की विवादित नियुक्ति उन फैसलों में से एक की जो चित्र रामकृष्ण ने कथित योगी के प्रभाव में आकर की थी। सीबीआई के सूत्रों ने बताया कि एक ईमेल आईडी से आनंद सुब्रमण्यम के ही हिमालयन योगी होने का खुलासा हुआ था। जांच एजेंसी के अनुसार इस बात के सबूत हैं कि सुब्रमण्यम ने ही ईमेल आईडी बनाई थी। चित्रा रामकृष्ण अपनी ईमेल आईडी के जरिए नेशनल स्टॉक एक्सचेंज से जुड़ी गोपनीय जानकारियां साल 2013 से 2016 के बीच शेयर करती थी।

आपको बता दें, इससे पहले आनंद सुब्रमण्यम को 3 दिन की पूछताछ के बाद सीबीआई ने 26 फरवरी को चेन्नई से गिरफ्तार किया था। आनंद सुब्रमण्यम 2013 में एनएससी के प्रमुख रणनीति सलाहकार रह चुके हैं ,बाद में उन्हें 2015 में ग्रुप ऑपरेटिंग अधिकारी के तौर पर पदोन्नत किया गया था।

Comments

Translate »