Site icon www.4Pillar.news

वास्तविक समस्या पर ध्यान दें ,भ्रामक हैशटैग पर नहीं:कपिल शर्मा

आज चंडीगढ़ में कपिल शर्मा ने एक ब्यान जारी किया।बोले ,देश को वास्तविक समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए। भ्रामक हैशटैग #BoycottSidhu ’या #BoycottKapilSharmaShow’

आज चंडीगढ़ में कपिल शर्मा ने एक ब्यान जारी किया।बोले ,देश को वास्तविक समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए। भ्रामक हैशटैग #BoycottSidhu ’या #BoycottKapilSharmaShow’

नवजोत सिंह सिद्धू विवाद पर कपिल शर्मा का ब्यान

ट्विटर पर टॉप ट्रेंड हुआ #BoycottKapilSharma 

आज चंडीगढ़ में कपिल शर्मा ने एक ब्यान जारी किया।बोले ,देश को वास्तविक समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए। भ्रामक हैशटैग #BoycottSidhu ’या #BoycottKapilSharmaShow’ पर नही।

हास्यकलाकर ,कपिल शर्मा ने नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा ,पुलवामा हमले के बाद दिए गए बयान पर आज चुप्पी तोड़ी। एक कार्यक्रम में बोलते हुए, कपिल ने कहा कि राष्ट्र का ध्यान वास्तविक समस्या पर होना चाहिए न कि #BoycottSidhu ’या #BoycottKapilSharmaShow’ जैसे भ्रामक हैशटैग पर।

नवजोत सिंह सिद्धू ने ,अपने ट्विटर हैंडल पर कपिल शर्मा का वीडियो शेयर करते हुए पूछा “#IskaImpactAyegaKiNahi” ? इस वीडियो में कपिल शर्मा को पूर्व क्रिकेटर सिद्धू को शो से निकाले जाने की खबरों को स्पष्ट करते हुए देखा जा सकता है।

कपिल शर्मा ने कहा ,”इस समस्या का स्थाई समाधान होना चाहिए। अगर सिद्धू जी को शो से निकलना समाधान होता ,तो सिद्धू जी इतने समझदार हैं कि वो शो छोड़कर खुद चले जाते। , लोगों को ‘#BoycottSidhu’ और ‘#BoycottKapilSharmaShow’ जैसे हैशटैग के साथ गुमराह किया जा रहा है। सभी को वास्तविक समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए। युवाओं का ध्यान वास्तविक मुद्दे से नहीं भटकना चाहिए। “

एक अन्य वीडियो में कपिल शर्मा ने कहा ,”यह सब प्रचार प्रसार जो ट्विटर पर चलता आ रहा है। मैं इस तरह की बातों में शामिल नही होता हूँ। मैंने कुछ अच्छी चीजें करना शुरू कर दी हैं और मैं चाहता हूँ कि आप सब टिप्पणियों के इर्द-गिर्द विवाद पैदा करने के बजाए इसमें मेरा साथ दें। “

मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल ,क्या सिद्धू के खिलाफ उनकी टिप्पणियों के लिए कोई कार्यवाई की जाएगी , कपिल ने कहा, “मैं इस बार शो का निर्माता नहीं हूं इसलिए यह चैनल का निर्णय होगा।”

सिद्धू ने मीडिया से बातचीत में पुलवामा हमले के बारे में बात करते हुए कहा था कि राष्ट्रों को “आतंकवादियों के घृणित कार्य” के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है और आतंकवादियों का कोई धर्म नहीं होता है। ‘

Exit mobile version