नेक दिल अभिनेता पुनीत राजकुमार का 46 वर्ष की उम्र में हार्ट अटैक के कारण निधन

साउथ और बॉलीवुड में अपनी अहम छाप छोड़ने वाले पुनीत राजकुमार का शुक्रवार के दिन हार्ट अटैक के कारण निधन हो गया है। वह 46 वर्ष के थे। उनके निधन के बाद सोशल मीडिया पर शोक जाहिर किया जा रहा है।

सुपरस्टार पुनीत राजकुमार इस दुनिया को अलविदा कह कर जा चुके हैं। 29 अक्टूबर को दिल का दौरा पड़ने की से 46 साल की उम्र में उनका निधन हो गया है। राजकुमार के निधन से बॉलीवुड से लेकर साउथ तक पूरी फिल्म इंडस्ट्री सदमे में है।

वर्कआउट के दौरान हुआ हार्ट अटैक

आपको बता दें पुनीत राजकुमार के पिता का निधन भी हार्ट अटैक के कारण हुआ था। पुनीत शुक्रवार के दिन वर्कआउट करने के लिए जिम गए थे। जहां उन्हें दिल का दौरा पड़ा। जिसके बाद उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां उनकी हालत काफी नाजुक हो गई। डॉक्टरों ने उनका इलाज शुरू किया मगर उन्हें बचा नहीं पाए, थोड़ी ही देर में उनके निधन की खबर बाहर आई। जिसके बाद शोक की लहर छा गई। पुनीत के घर और अस्पताल के बाहर उनके चाहने वाले इकट्ठा हो गए थे। पुनीत अपने पीछे परिवार में पत्नी और दो बेटियों को छोड़कर गए हैं।

दरिया दिल इंसान थे पुनीत

बता दे पुनीत कई नेक काम भी किया करते थे। पुनीत 26 अनाथालय, मुफ्त शिक्षा देने वाले 46 स्कूल और 16 गौशाला के साथ वह 1800 बच्चों की पढ़ाई का जिम्मा उठाते थे।

पिता की तरह नेत्रदान किया

पुनीत ने इस दुनिया को छोड़ने के बाद भी एक नेक काम किया है। पुनीत ने अपने पिता की तरह नेत्रदान किया है।  उनके पिता डॉक्टर राजकुमार ने साल 1994 में पूरे परिवारों की आंखें दान करने का फैसला लिया था। वह 2006 में इस दुनिया को अलविदा कह कर चले गए थे। पुनीत के पिता का निधन 12 अप्रैल 2006 को दिल का दौरा पड़ने के कारण हुआ था।

पुनीत के नेत्रदान की जानकारी अभिनेता चेतन कुमार अहिमसा ने दी है। चेतन ने ट्वीट किया,” जब मैं अप्पू सर को देखने के लिए अस्पताल गया था, डॉक्टरों की एक टीम ने 6 घंटों के अंदर उनकी आंखे निकाल ली। जिस तरह से डॉक्टर राजकुमार और नीमा शिवन्ना ने अपनी आंखें दान की थी, वैसे ही अप्पू सर ने भी किया। अप्पू सर की याद में हमें भी अपनी आंखें दान करने की प्रतिज्ञा लेनी चाहिए।”

Comments

Translate »