स्वतंत्र पत्रकारिता लोकतंत्र की रीढ़ है : CJI एनवी रमना

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान पत्रकारिता के गिरते स्तर पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि लोग आज भी यह विश्वास करते हैं कि जो खबर छपी है, वह सही है।

CJI एनवी रमना ने मंगलवार के दिन एक दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान भारतीय मीडिया के गिरते स्तर पर चिंता जताते हुए अपने विचार साझा किए हैं। उन्होंने कहा ,” मैं केवल इतना कहना चाहता हूं कि मीडिया को अपने प्रभाव और व्यावसायिक हितों का विस्तार करने के लिए एक उपकरण के रूप में उपयोग किए बिना खुद को ईमानदार पत्रकारिता तक सीमित रखना चाहिए। ”

उन्होंने कहा ,” केवल मीडिया घरानों के पास व्यावसायिक सामान नहीं था, जो आपातकाल के काले दिनों में लोकतंत्र के लिए लड़ने में सक्षम थे। मीडिया घरानों की वास्तविक प्रकृति का निश्चित रूप से समय-समय पर मूल्यांकन किया जाएगा और परीक्षण के समय उनके आचरण से उचित निष्कर्ष निकाला जाएगा।”

चीफ जस्टिस ऑफ़ इंडिया ने कहा ,” स्वतंत्र पत्रकारिता लोकतंत्र की रीढ़ है। पत्रकार जनता के आंख-कान होते हैं। विशेष रूप से भारतीय सामाजिक परिदृश्य में तथ्यों को प्रस्तुत करना मीडिया घरानों की जिम्मेदारी है। लोग आज भी मानते हैं कि जो छपता है वही सच होता है। ”

ये भी पढ़े, World Press Freedom Index में 142 से खिसक कर 150 वे पायदान पर पहुंचा भारत, देखें बाकी देशों की सूची

आपको बता दें, साल 2022 में भारतीय मीडिया का स्तर पिछले वर्ष के मुकाबले 8 पायदान गिरकर 150 पर पहुंच गया। वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय मीडिया का स्तर 180 देशों की सूचि में 150 के निम्न स्तर पर है। साल 2021 में भारतीय मीडिया ( प्रिंट और डिजिटल ) का स्थान 142 पर था।

Comments

Translate »