कथक डांसर बिरजू महाराज का 83 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने से निधन

पंडित बिरजू महाराज का रविवार देर रात 12:00 बजे के करीब हार्ट अटैक के कारण निधन हो गया है। इस बात की जानकारी बिरजू महाराज की पोती की रागनी महाराज ने दी है ।

भारत के मशहूर कथक डांसर और पद्म विभूषण से सम्मानित पंडित बिरजू महाराज का दिल का दौरा पड़ने के कारण निधन हो गया है। वह 83 वर्ष के थे ।  उन्होंने दिल्ली स्थित अपने आवास में अंतिम सांस ली। रविवार और सोमवार की दरमियानी रात को उन्हें दिल का दौरा आया। उनकी पोती रागनी महाराज ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा कि बिरजू महाराज का दिल का दौरा पड़ने के कारण निधन हो गया है । उनका पिछले 1 महीने से इलाज चल रहा था । बीती रात करीब 12:15 12:30 उन्हें अचानक सांस लेने में तकलीफ हुई । उन्हें 10 मिनट के भीतर साकेत अस्पताल ले जाया गया। लेकिन उनका निधन हो गया।

अंताक्षरी खेलते समय हुए बेहोश

बिरजू महाराज की पोती ने बताया पंडित बिरजू महाराज रविवार और सोमवार की दरमियानी रात करीब 12:00 बजे तक अपने नाती पोतों के साथ अंताक्षरी खेल रहे थे । अंताक्षरी खेलते खेलते अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई और वह बेहोश हो गए । उन्हें दिल्ली के साकेत अस्पताल ले जाया गया । जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पंडित बिरजू महाराज पिछले 1 महीने से किडनी की बीमारी से ग्रसित चल रहे थे । वह डायलिसिस पर थे। लेकिन अचानक रात में उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ी और देहांत हो गया । लखनऊ घराने से ताल्लुक रखने वाले बिरजू महाराज का पूरा नाम बृजमोहन मिश्रा था। उनका जन्म 4 फरवरी 1938 को लखनऊ में हुआ था। लोग उन्हें प्यार से पंडित जी या महाराज जी कहते थे।

बिरजू महाराज बनारस से नाता था। उनका ससुराल बनारस में था । इलाहाबाद की हंडिया तहसील जो पहले बनारस में आती थी उनका परिवार वहीं का रहने वाला है था । जो बाद में लखनऊ चला गया फिर वही लखनऊ घराना बना ।

Comments

Translate »