जानिए,जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाना क्यों जरूरी था

भारत के गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद और गरीबी की जड़ धारा 370 है उन्होंने कहा कि आर्टिकल 370 के कारण जम्मू-कश्मीर का विकास नहीं हुआ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केंद्र सरकार ने कल सोमवार के दिन जम्मू-कश्मीर से धारा 370 खत्म कर दी है। इसी के साथ ही जम्मू-कश्मीर को मिला हुआ विशेष राज्य का दर्जा भी खत्म कर दिया। जम्मू-कश्मीर को दो भागों में बांटते हुए, जम्मू-कश्मीर को विधान सभा के साथ केंद्र शासित प्रदेश और लद्दाख को बिना विधान सभा का केंद्र शासित प्रदेश कर दिया है। मोदी सरकार के इस फैसले का बीजेपी की सहयोगी पार्टियों के साथ-साथ कुछ विपक्षी दलों ने भी समर्थन किया है।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने राज्य सभा में इस आर्टिकल को हटाने कारण बताए। श्री अमित शाह ने कहा,” आर्टिकल 370 का कारण जम्मू-कश्मीर में लोग गरीबी की जिंदगी जी रहे थे। इसकी छाया में आज तक जम्मू-कश्मीर की तीन परिवारों ने लूटा है। इस धारा के कारण जम्मू-कश्मीर में भ्रष्टाचार बढ़ा। धारा 370 ने जम्मू-कश्मीर और ‘लद्दाख’ को बहुत नुकसान पहुंचाया। ”

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा,” भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए करोड़ों रुपए भेजे लेकिन वो भ्रष्टाचार की भेंट चढ़गए। आर्टिकल 370 का इस्तेमाल करके जम्मू-कश्मीर में भ्रष्टाचार को काबू करने वाले कानून लागू नहीं होने दिए गए। आर्टिकल 370 और 35ए हटाने से घाटी ,लद्दाख और जम्मू का भला होने वाला है। इस धारा के खत्म होने से जम्मू-कश्मीर में पर्यटन बढ़ेगा जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। “

Comments

Translate »