मिशन कश्मीर:पीएम मोदी के नेतृत्व वाली कैबिनेट की बैठक में लिया गया बड़ा फैसला

जम्मू कश्मीर मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में की गई कैबिनेट की बैठक खत्म हो गई है। केंद्र सरकार ने देश के सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी कर दी है। बीजेपी शासित उत्तर प्रदेश सहित देश के कई राज्यों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। हिंसा को रोकने के लिए पुलिस को ‘मॉक ड्रिल’ करने का निर्देश दिया गया है।

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए गए है। अर्धसैनिक बलों को लगभग एक हजार कंपनियां घाटी में तैनात हैं। कुल एक लाख जवान राज्य में सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में इससे पहले सुरक्षा बलों की इतनी भारी तादाद में पुलवामा हमले के बाद और बालाकोट एयर स्ट्राइक से पहले की गई थी।


सूत्रों के अनुसार घाटी में आतंकी हमले की ख़ुफ़िया रिपोर्ट मिलने के बाद 100 अर्धसैनिक बलों की कंपनियों को तैनात किया गया। आज से दो दिन पहले 80 और कंपनियों को भेजा गया था। अमरनाथ यात्रियों और सैलानियों को घाटी छोड़ने निर्देश पहले ही दिया जा चूका है। उनकी सुरक्षा में लगाई गई अर्धसैनिक बलों की 320 कंपनियों को घाटी की सुरक्षा में तैनात कर दिया गया है।

जम्मू-कश्मीर को लेकर अटकलों का दौर जारी है। इसी बीच जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ‘महबूबा मुफ़्ती’ ,’उमर अब्दुल्ला’ और अलगाववादी नेता ‘सज्जाद लोन’ को घर पर ही नज़रबंद कर दिया गया है। कश्मीर में धारा 144 लागू कर दी गई है। मोबाइल और इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है।

Comments

Translate »