निशा जिंदल नाम की फेक फेसबुक आईडी चलाने वाले रवि को रायपुर पुलिस ने दबोचा, जानें मामला

सोशल मीडिया के इस जमाने जहां ऑनलाइन फ्रॉड की संख्या बढ़ती जा रही है। वहीँ कुछ लोग फेक आईडी बनाकर सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने और अफवाहें फैलाने का भी काम कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला छत्तीसगढ़ के रायपुर से सामने आया है।

छत्तीगढ़ के रायपुर का रहने वाला रवि नाम का एक युवक सोशल मीडिया पर निशा जिंदल नाम से फेसबुक आईडी चला रहा था। उसने समाजी वैमनस्य फैलाकर और सत्तारुद्द पार्टी की आलोचना कर फेसबुक पर 10 हजार फॉलोवर्स भी जोड़ लिए थे। लेकिन कहते हैं न कि झूठ के पांव नहीं होते। ऐसे ही रवि का झूठ भी ज्यादा दिन नहीं चल पाया।

रवि ने निशा जिंदल नाम की फेक फेसबुक आईडी पर ऐसे भड़काऊ लेख लिखे कि पुलिस को उसकी जांच पड़ताल करनी पड़ी। जैसे ही पुलिस निशा नाम की लड़की को खोजते हुए इस फेक फेसबुक यूजर तक पहुंची ,तो मामला कुछ और ही निकला। रायपुर पुलिस जिस निशा जिंदल की तलाश में पहुंची थी ,वो असल में रवि निकला।

जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो रवि ने सब कुछ कबूल कर लिया। रवि 11 साल से इंजीनियरिंग की पढ़ाई में फेल होता आ रहा है। पुलिस ने उसके सभी फेसबुक फॉलोवर्स को बताने के लिए उससे पोस्ट करवाई। जिसमें रवि ने लिखा ,” मैं पुलिस कस्टडी में हूं , मैं ही निशा हूं। ”

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस तरह का फर्जीवाड़ा करने वालों को कड़ी चेतावनी दी है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा ,” किसी भी फर्जीवाड़े को बख्शा नहीं जाएगा। आइए ,हम सभी उन असामाजिक तत्वों को सामने लाएं ,जो गुमराह करना चाहते हैं। ”

रवि की गिरफ्तारी पर कवि कुमार विश्वास ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ट्विटर पर लिखा ,” निशा और निशाचर के भेद को जगज्ञापित करने हेतु रायपुर पुलिस को बधाई। “

Comments

Translate »