WhatsApp ने भारत सरकार पर किया मुकदमा दर्ज, बोले-चैट को ट्रेस करने के लिए कहना यूजर से फिंगरप्रिंट की जानकारी मांगने जैसा है 

0
12
WhatsApp ने भारत सरकार पर किया मुकदमा दर्ज, बोले चैट को ट्रेस करने के लिए कहना यूजर से फिंगरप्रिंट की जानकारी मांगने जैसा है

भारत सरकार के नए IT नियमो के खिलाफ WhatsApp ने दिल्ली हाई कोर्ट ने मुकददमा दायर किया है। जिसमे व्हाट्सप्प ने आज से लागु होने वाले नए नियमो पर रोक लगाने की मांग की है। WhatsApp का कहना है कि नए नियमो के लागु होने से यूजर की प्राइवेसी खतरे में पड़ सकती है।

व्हाट्सप्प ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि भारत सरकार के नए नियमो में चेट को ट्रेस करने की बातकही गई  है। चैट को ट्रेस करने का मतलब तो कुछ ऐसा ही है जैसे हमने यूजर से फिंगरप्रिंट की जानकारी मांग ली हो। ये end-to-end- encryption को तोड़ देगा। जिससे व्हाट्सप्प यूजर की प्राइवेसी खतरे में पड़ जायगी।

‘हम इस बारे में भारत सरकार से लगातार बातचीत करके समाधान ढूंढने की कोशिश कर जारी रखेंगे और जैसे ही हमारे पास कोई लीगल वैलिड रिक्वेस्ट आती है तो हम उन्हें जानकारी उपलब्ध कराएंगे।’

सरकार  के नए डिजिटल नियमो के अनुसार सभी सोशल मीडिया कंपनियों को किसी पोस्ट सबसे पहले किसने किया है ? इस बात की जानकारी सरकार को देनी है। इसका असर सबसे ज्यादा व्हाट्सप्प पर पड़ेगा।

ये भी पढ़ें ,बिग बॉस 14 के घर में अली गोनी और जैस्मिन भसीन पर लिखे गाने को रिलीज़ करने जा रहे है राहुल वैद्य, पोस्टर और वीडियो शेयर करके दी जानकारी

व्हाट्सप्प का मुताबिक ऐसा करने के लिए हमे एन्ड-टू-एन्ड एन्क्रिप्शन को तोडना होगा। क्योंकि व्हाट्सप्प के मैसेज  एन्ड-टू-एन्ड-एन्क्रिप्टिड होते है। उन्हें रिसीवर और सेन्डर के आलावा कोई थर्ड पर्सन नहीं देख सकता। एन्ड-टू-एन्ड एन्क्रिप्शन के तोड़ने से यूजर की प्राइवेसी खत्म हो जायगी।;

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here