1000 वेंटीलेटर और ऑक्सीजन जनरेटर लेकर यूके से भारत की मदद के लिए उड़ा दुनिया का सबसे बड़ा विमान

यूनाइटेड किंगडम की तरफ से बताया गया कि भारत कोरोनावायरस महामारी की खतरनाक दूसरी लहर से गुजर रहा है। हम अपने दोस्त के साथ इस आपदा की घड़ी में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं।

यूके ने बढ़ाया भारत की मदद के लिए हाथ

भारत इस समय कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर के कहर से जूझ रहा है। आपदा की इस घड़ी में कई मित्र देशों ने भारत की मदद के लिए आगे हाथ बढ़ाया है। इसी कड़ी में उतरी आयरलैंड के बेलफास्ट से 18 टन ऑक्सीजन जनरेटर 1000 वेंटीलेटर के साथ दुनिया का सबसे बड़ा मालवाहक कार्गो विमान भारत के लिए उड़ान भर चुका है। इस बात की जानकारी खुद ब्रिटिश सरकार ने दी है।

विशालकाय एंटोनोव 124 एयरक्राफ्ट

विदेश राष्ट्रमंडल और विकास कार्यालय ने कहा कि हवाई अड्डे के कर्मियों ने रात भर कड़ी मेहनत करते हुए विशालकाय  एंटोनोव 124 एयरक्राफ्ट में जीवन रक्षक दवाएं लादी। एफसीडीओ ने ही इसका पूर्ति के लिए फंड प्रदान किया है। रविवार सुबह 8:00 बजे इस विमान के दिल्ली में लैंड करने की उम्मीद जताई जा रही है।

यूनाइटेड किंगडम के विदेश सचिव डोमिनिक ने कहा,” ऑक्सीजन जनरेटर प्रति मिनट 500 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन करता है। यूके के विदेश सचिव ने कहा ब्रिटेन उत्तरी आयरलैंड से भारत में ऑक्सीजन जनरेटर भेज रहा ।है यूके के विदेश सचिव ने डोमिनिक ने कहा कि यह अक्सीजन अस्पतालों में कोविड-19 ओं की देखभाल के लिए सहयोग करेगा।

ब्रिटिश सरकार ने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े मालवाहक विमान ने शुक्रवार को उत्तरी आयरलैंड के बेलफास्ट को छोड़ दिया है। जिसमें ब्रिटेन के कोविड-19 ब्रिटेन की नई प्रतिक्रिया के हिस्से के रूप में 3 ऑक्सीजन जनरेटर और 1000 वेंटीलेटर थे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कोरोना संकट से जूझ रहे भारत में इंडियन रेडक्रास की मदद से यूनाइटेड किंगडम से आई इस मदद को अस्पतालों में पहुंचाया जाएगा। तीनों ऑक्सीजन जनरेटर में से प्रत्येक प्रति मिनट 500 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन करता है। एक समय में 50  लोगों के उपयोग करने के लिए यह पर्याप्त है।

यूके के विदेश सचिव का ब्यान

यूनाइटेड किंगडम के विदेश सचिव डोमिनिक रैब ने कहा,” हम इस वैश्विक महामारी से एक साथ लड़ाई लड़ेंगे। जो महत्वपूर्ण उपकरण प्रदान कर रहे हैं। जिसमें  ऑक्सीजन जनरेटर शामिल है । जीवन बचाने में मदद करेंगे और भारत की स्वास्थ्य प्रणाली का सपोर्ट करेंगे।

Comments

Translate »