बुलंदशहर हिंसा:पांच पर इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या आरोप,38 नामज़द

बुलंदशहर हिंसा केस में यूपी पुलिस ने 38 लोगों को हिंसा का आरोपी बनाया।इनमें से पांच को इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या का मुख्य आरोपी बनाया।

पिछले साल यूपी के स्याना में गोकशी को लेकर हिंसा फ़ैल गई थी।गोकशी की घटना की सुचना यूपी पुलिस को दी गई थी।पुलिस मौके पर पहुंची।पुलिस ने उग्र भीड़ को समझाने का प्रयास किया लेकिन लोग काफी उग्र थे और उन्होंने पुलिस पर ही हमला कर दिया।इस हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी। हिंसा में स्थानीय ग्रामीण सुमित भी गोली लगने के कारण मारा गया था।

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को न केवल गोली मारी गई थी बल्कि उनके सर पर कुल्हाड़ी से वार भी किया गया था।यूपी पुलिस के अनुसार सबसे पहले कलुआ उर्फ़ राजीव ने सबसे पहले इंस्पेक्टर सुबोध कुमार पर कुल्हाड़ी से हमला किया था। कलुवा कुल्हाड़ी से पेड़ की टहनियां काटकर सड़क जाम कर रहा था जब इंस्पेक्टर ने उसे रोकने की  कोशिशकी तो कुल्हाड़ी से हमला किया था।

इस हिंसा की यूपी पुलिस की स्पेशल इंवेस्टीगेशंन टीम ने कोर्ट में चार्जशीट  दाखिल कर दी है।चार्जशीट बुलंदशहर की अदालत में दाखिल की गई। सीट(SIT) ने बताया चार्जशीट में 38 लोगों का नाम लिखा गया है। जिनमें से पांच इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के मुख्य आरोपी हैं।

इनमें से पांच लोगों ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को घेर कर गोली मारी थी।बजरंग दल के नेता और मामले के प्रमुख आरोपियों में से एक योगेश राज पर दंगा भड़काने और आगजनी का आरोप लगाया गया है।हिंसा के कई दिन बाद पकड़े गए प्रशांत नट्ट का नाम भी मुख्य आरोपियों में है।अदालत इस मामले की सुनवाई सोमवार को कर सकती है। गौरतलब है यूपी पुलिस ने प्रशांत नट्ट के घर से छापा मार कर इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह का मोबाइल भी हिंसा के कुछ दिन बाद बरामद किया था।

Comments

Translate »