शिव सेना नेता संजय राउत के घर पर ED की टीम पहुंची, पात्रा चॉल घोटाले का है मामला

Patra Chawl land case : शिव सेना सांसद संजय राउत के घर पर सुबह 7 बजे ED की टीम पहुंची। जांच एजेंसी पात्रा चॉल घोटाले के मामले में पूछताछ करने के लिए पहुंची है।

प्रवर्तन निदेशालय की टीम CRPF अधिकारीयों के साथ रविवार सुबह शिव सेना सांसद संजय राउत के भांडुप स्थित आवास पर पहुंची है। पात्रा चॉल भूमि घोटाले के मामले में दो बार समन भेजने के बाद भी संजय राउत ईडी के समक्ष पेश नहीं हुए। इसलिए ईडी की टीम आज सुबह उनके घर पहुंच गई है। हालांकि इससे पहले संजय राउत से 10 तक की पूछताछ हो चुकी है।

दो बार समन के बाद नहीं पहुंचे

सांसद संजय राउत को एक जुलाई को ईडी ऑफिस बुलाया गया था। जहां उन्होंने जांच एजेंसी के 10 घंटे की पूछताछ के बाद अपना ब्यान दर्ज कराया था। इसके बाद उन्हे 20 और 27 जुलाई को तलब किया गया था। उस समय संजय राउत ने कहा था कि वे संसद में मानसून सत्र चलने के कारण पेश नहीं हो सकते। उन्होंने कहा था कि वे 7 अगस्त 2022 के बाद ही पेश हो पाएंगे।

क्या है मामला ?

केंद्रीय जांच के अनुसार, पात्रा चॉल 672 परिवारों के लिए सोसाइटी बनाने के लिए म्हाडा और गुरु आशीष कंस्ट्रशन के बीच करार हुआ था। गुरु आशीष कंस्ट्रशन कंपनी के डायरेक्टर HDIL के सारंग वाधवान , राकेश वाधवान और प्रवीण राउत थे। गुरु आशीष कंस्ट्रशन कंपनी पर आरोप है कि पहले तो उसने म्हाडा को गुमराह कर वहां की FSI दूसरे नौ बिल्डरों को बेचकर 901 करोड़ रूपये जमा किए उसके बाद मिडोज नाम का प्रोजेक्ट शुरू कर फ्लैट बुकिंग के नाम पर 138 करोड़ वसूले। लेकिन असली हकदारों को उनके मकान नहीं दिए गए।

ईडी का आरोप है कि गुरु आशीष कंस्ट्रशन कंपनी के डायरेक्टर प्रवीण राउत को 100 करोड़ रूपये दिए गए। जिसमें से प्रवीण राउत ने सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को 55 लाख रूपये दिए थे। जोकि एक धन शोधन का मामला है।

संजय राउत का ब्यान

वहीँ, संजय राउत ने अपने आवास पर ईडी की रेड के बाद कहा ,” झूठी कार्रवाई , जूठे सबूत ,मैं शिवसेना नहीं छोडूंगा ,मैं मर भी जाऊं मैं आत्मसमर्पण नहीं करूंगा। मेरा किसी घोटाले से कोई लेनादेना नहीं है। महाराष्ट्र और शिवसेना लड़ते रहेंगे। “

Comments

Translate »