वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने पीएम नरेंद्र मोदी का रिपोर्ट कार्ड जारी कर साधा निशान,बताया इन मामलों में फेल

प्रशांत भूषण ने पीएम नरेंद्र मोदी का रिपोर्ट कार्ड जारी कर निशाना साधा है । सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने भारत में बेरोजगारी , महंगाई , मीडिया की आजादी सहित कई मुद्दों को ग्रेड के साथ रिपोर्ट कार्ड में चिन्हित किया है ।

सामाजिक कार्यकर्ता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण अपने बयानों को लेकर हमेशा सुर्ख़ियों में रहते हैं । वह केंद्र सरकार की गलत नीतियों का विरोध करने के लिए अपनी आवाज उठाते रहते हैं । हालांकि अपनी स्पष्टवादिता के कारण उन्हें कई बार कोर्ट केसों का भी सामना करना पड़ा है । इन सबसे इतर प्रशांत भूषण ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक रिपोर्ट कार्ड शेयर करते हुए निशाना साधा है । वरिष्ठ अधिवक्ता ने ट्विटर पर जारी किए गए रिपोर्ट कार्ड में पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा है ।

प्रशांत भूषण ने पीएम मोदी के रिपोर्ट कार्ड को ट्विटर पर जारी करते हुए कैप्शन में लिखा ,” मोदी जी का रिपोर्ट कार्ड ।” सीनियर वकील द्वारा साझा किए गए रिपोर्ट कार्ड में प्रेस की आजादी , वैश्विक भुखमरी , हैप्पीनेस इंडेक्स सहित आठ मुद्दों को रैंकिंग और ग्रेड के साथ दर्शाया है । उन्होंने पीएम की डिग्री का जिक्र करते हुए ‘मास्टर इन एंटायर पोलिटिकल साइंस’ बताया है ।

प्रशांत भूषण का ट्वीट

मोदी राज में भारत की रैंकिंग                          प्राप्त अंक       ग्रेड

  • प्रेस की स्वतंत्रता                                    150/180        D
  • वैश्विक भूख सूचकांक                             101/116        E
  • खुशी सूचकांक                                       136/149        E
  • संयुक्त राष्ट्र मानव विकास सूचकांक        131/189        C
  • मानव स्वतंत्रता सूचकांक                        119/165        C
  • चुनावी लोकतंत्र सूचकांक                         100/179       C
  • उदार लोकतांत्रिक सूचकांक                       93/179        B
  • सुविचारित घटक सूचकांक                        102/179      C

उन्होंने रिमार्क में पीएम मोदी को इस सभी मोर्चों पर फेल करार देते हुए लिखा ,” नरेंद्र मोदी को आधिकारिक तौर पर संविधान का सम्मान करते हुए इसके मूल्यों का पालन करना चाहिए ।”

बता दें , इससे पहले प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट अवमानना मामले में माफ़ी मांगने से इंकार किया था । सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को अवमानना मामले में दोषी ठहराया था । बाद में सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में प्रशांत भूषण पर लगाया एक रूपये का जुर्माना लगाया था ।

Comments

Translate »