IMA, IIT Delhi और ऑक्सफैम इंडिया सहित 12 हजार से ज्यादा एनजीओ का FCRA लाइसेंस रद्द, नहीं ले पाएंगे विदेशी चंदा

जिन गैर सरकारी संगठनों का एफसीआरए पंजीकरण समाप्त हो गया है उनमें एमसीआई, इमैनुएल हॉस्पिटल एसोसिएशन, ट्यूबरक्लोसिस एसोसिएशन ऑफ इंडिया, विश्व धर्मायतन महर्षि आयुर्वेद प्रतिष्ठान, नेशनल फाउंडेशन फॉर फिशरमैन कोआपरेटिव लिमिटेड सहित 12580 संगठन शामिल है।

भारत में करीब 12 हजार से ज्यादा गैर सरकारी संगठनों का एफसीआरए लाइसेंस 31 दिसंबर 2021 को समाप्त हो गया है। गृह मंत्रालय ने शनिवार सुबह, 1 जनवरी 2022 को कहा कि 6000 से ज्यादा एनजीओ में से अधिकांश ने लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए आवेदन नहीं किया था । विदेशों से दान और चंदा प्राप्त करने के लिए फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट के तहत स्वयंसेवी संगठनों के लाइसेंस लेना पड़ता है।

गृह मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार सभी एनजीओ को शुक्रवार 31 दिसंबर से पहले एफसीआरए लाइसेंस नवीनीकरण के आवेदन के लिए रिमाइंडर भेजा गया था। लेकिन कई एनजीओ ने ऐसा नहीं किया। मंत्रालय ने कहा ‘जब आवेदन नहीं किया गया तो उन्हें अनुमति कैसे दी जा सकती है?’

इन एनजीओ का हुआ लाइसेंस रद्द

इस लिस्ट लाइसेंस गवाने वाले संस्थानों में जामिया मिलिया इस्लामिया, ऑक्सफैम इंडिया ट्रस्ट, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और लेप्रोसी मिशन सहित कुल मिलाकर 12 हजार से अधिक गैर सरकारी संगठन शामिल हैं। इनके अलावा ट्यूबरक्लोसिस एसोसिएशन आफ इंडिया, इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स और इंडियन इस्लामिक कल्चरल सेंटर भी इस फेहरिस्त में शामिल है।

इन NGOs  का नहीं हुआ लाइसेंस रद्द

भारत में अब केवल 16829 एनजीओ बचे हैं जिनके पास एफसीआरए लाइसेंस है। जिसको 31 दिसंबर 2021 को 31 मार्च 2022 तक के लिए नवीनीकृत किया गया है। न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के अनुसार एफसीआरए के तहत कुल 22762 एनजीओ पंजीकृत हैं और इनमें से अब तक 6500 के आवेदन को नवीनीकरण के लिए बढ़ाया गया है।

बता दें, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 25 दिसंबर 2021 को एफसीआरए पंजीकरण के नवीनीकरण के लिए मदर टेरेसा द्वारा कोलकाता में स्थापित मिशनरीज आफ चैरिटी के आवेदन को पात्रता शर्तों को पूरा नहीं करने के कारण रद्द कर दिया था। मंत्रालय ने मिशनरीज आफ चैरिटी के एफसीआरए लाइसेंस को नवीनीकरण नहीं करने का कारण प्रतिकूल इनपुट का हवाला दिया था।

Comments

Translate »