पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को हर महीने मिलेगी ढाई लाख रूपये पेंशन सहित ये सुविधाएं

द्रौपदी मुर्मू ने भारत की 15वीं राष्ट्र्पति के रूप में शपथ ले ली है। उन्होंने रामनाथ कोविंद का कार्यकाल खत्म होने के बाद राष्ट्रपति पद की शपथ ली है। अब पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति भवन से 12 जनपथ स्थित टाइप-8 बंगले में आजीवन रहेंगे। आइए जानते हैं। भारत के पूर्व राष्ट्रपति को सेवामुक्त होने के बाद क्या-क्या सुविधाएं मिलेंगी।

सोनिया गांधी के पड़ोसी बने कोविंद

कार्यकाल समाप्त होने के बाद पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार को राष्ट्रपति भवन से दिल्ली स्थित 12 जनपथ पर बने बंगला में शिफ्ट हो गए है। यह वही बंगला है जहां लोक जनशक्ति पार्टी प्रमुख रामविलास पासवान रहा करते थे। उनके निधन के बाद पासवान के बेटे चिराग पासवान उस बंगले में रहते थे। लेकिन साल 2022 के मार्च महीने में उनसे यह बंगला खाली करवा लिया गया था। अब पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सपरिवार उस बंगले में शिफ्ट हो गए हैं। पूर्व राष्ट्रपति के पड़ोस में कांग्रेस पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी पहले से रह रही हैं।

पूर्व राष्ट्रपति को मिलने वाली सुविधाएं

1951 के अधिनियम के अनुसार, भारत के सेवानिवृत राष्ट्रपति को कार्यकाल के दौरान मिलने वाले वेतन का पचास प्रतिशत पेंशन के रूप में मिलता है। अब रामनाथ कोविंद को हर महीने ढाई लाख रुपए पेंशन,  बिना किराये का एक बंगला, दो टेलीफोन ( जिनमें से एक ब्रॉडबैंड से कनेक्टेड होगा ) रोमिंग फ्री मोबाइल फोन , एक कार या कार लेने के लिए भत्ता मिलेगा। भारतीय कानून के अनुसार,अगर राष्ट्रपति की मृत्यु हो जाती है तो ये सभी सुविधाएं उनकी पत्नी को मिलती रहती हैं।

कार्यकाल पूरा न करने पर भी मिलती हैं सुविधाएं

इसके अलावा पूर्व राष्ट्रपति को एक व्यक्ति के साथ देश में हवाई सफर , रेल सफर और समुद्री सफर की मुफ्त सुविधा मिलती है। पूर्व राष्ट्रपति और उनके जीवन साथी को मेडिकल सुविधाएं मुफ्त मिलती हैं। उनको दो सचिव , दो चपरासी सहित आठ लोगों का स्टाफ मिलता है। स्टाफ के लिए प्रति वर्ष एक लाख रूपये का भत्ता मिलता है। यह सुविधाएं उन पूर्व राष्ट्रपतियों को भी दी जाती हैं जो अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाते या इस्तीफा दे देते हैं।

Comments

Translate »