भारतीय महिला क्रिकेटर शैफाली वर्मा ने खेल में सुधार के लिए अपनाया ये जबरदस्त तरीका

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की बल्लेबाज शैफाली वर्मा अपनी धांसू बल्लेबाजी के लिए जानी जाती है। हाल ही में शेफाली वर्मा ने हर हर्षल पटेल और राहुल तेवतिया के अलावा मोहित शर्मा से बाउंसरों से निपटने पर बातचीत की।

भारतीय महिला की 17 साल की शेफाली वर्मा ने अपने खेल में का स्तर ऊंचा करने के लिए अनूठा तरीका ढूंढा है। अब इस तरीके से शेफाली वर्मा को कितना फायदा होगा। यह आगे होने वाली क्रिकेट सीरीज और टूर्नामेंट में पता चलेगा।

महिला क्रिकेटर शेफाली वर्मा ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि हालिया समय में उन्होंने विदेशी जमीन और आगामी दौरों को ध्यान में रखते हुए अपने बैकफुट के खेल पर काफी काम किया। इसके लिए इस साल पुरुषों की राष्ट्रीय T20 ट्रॉफी सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए लगे कैंप में हिस्सा लिया। इस शिविर में हरियाणा रणजी ट्रॉफी के पुरुष गेंदबाजों का सामना करने से काफी फायदा मिला है।,”

शैफाली ने कहा,” मेरा बैकफुट खेल थोड़ा कमजोर था। लेकिन रणजी ट्रॉफी में पुरुष गेंदबाजों का सामना करने से निश्चित ही मेरा खेल और तकनीक और आत्मविश्वास के लिहाज से काफी सुधार हुआ है। ज्यादातर ऐसे गेंदबाज थे और उनकी गति करीब 140 किलोमीटर प्रति घंटा की है ।” आक्रामक तेवरों के साथ बल्लेबाजी करने वाली शैफाली ने कहा कि उन्होंने बाउंसरों से निपटने के लिए हरियाणा के लिए खेलने वाले और आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करने वाले हर्षल पटेल और राहुल तेवतिया के साथ विचार विमर्श किया।

उन्होंने कहा,” मैंने हर्षल पटेल और राहुल तेवतिया के अलावा मोहित शर्मा से बाउंसरों से निपटने पर चर्चा की। मैंने उनकी सोच को समझने की कोशिश की । इन सभी ने मुझसे अपने विचार साझा किए और ऐसा ही उनके कोचों ने भी किया। जिसके लिए मैं इन लोगों और हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा दिए गए इस मौके के लिए उनका धन्यवाद करती हूं।”

Comments

Translate »