स्क्वाड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल ने बालाकोट एयरस्ट्राइक और विंग कमांडर अभिनंदन के बारे में किया खुलासा

पाकिस्तान के साथ फरवरी में हवाई संघर्ष में उड़ान नियंत्रक के तौर पर अहम भूमिका निभाने वाली मिंटी अग्रवाल ने गुरुवार को न्यूज़ एजेंसी एएनआई बताया कि बालाकोट ऑपरेशन का हिस्सा होने के अनुभव की तुलना दुनिया में किसी चीज से नहीं की जा सकती है।

पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने 14 फरवरी के सीआरपीएफ काफिले पर जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में फिदायीन हमला किया था। जिसमें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 40 जवान शहीद हो गए थे। जिसके जवाब में भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी शिविरों पर एयरस्ट्राइक किया था।

एयर फ़ोर्स ने इस हमले को सुबह 3.30 बजे अंजाम दिया था। वायुसेना द्वारा सरकार को दी गई जानकारी के अनुसार इस एयरस्ट्राइक में जैश-ए-मोहम्मद के काफी आतंकवादी मारे गए थे।

skvaadran leedar mintee agravaal ne baalaakot eyarastraik aur ving kamaandar abhinandan varatamaan baare mein kiya khulaasa Learn to pronounce Squadron Leader Minty Aggarwal revealed about Balakot Airstrike and Wing Commander Abhinandan
स्क्वार्डन लीड मिंटी अग्रवाल फोटो एएनआई

स्क्वार्डन लीडर मिंटी अग्रवाल ने कहा कि वह बालाकोट एयरस्ट्राइक के एक दिन बाद 27 फरवरी को पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराते हुए विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को लाइव देखा।

मिंटी अग्रवाल ने कहा,” 26 और 27 फरवरी जैसे ऑपरेशन के लिए ही हम इस वर्दी को पहनते हैं। यह मेरा सौभाग्य था कि मुझे सी ऑपरेशन का हिस्सा बनने का मौका मिला। इस अनुभव की तुलना दुनिया में किसी चीज से नहीं की जा सकती। ”

स्क्वाड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल ने 26 फरवरी को भारत की तरफ से पाकिस्तान के बालाकोट में किए गए हमले के एक दिन बाद 27 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के नौसेरा सेक्टर की तरफ बढ़ रहे पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों का पता लगने के बाद भारतीय वायुसेना की टीमों को सतर्क किया था।

जिसके बाद भारतीय वायुसेना के जांबाज अफसर विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के एफ-16 विमान का पीछा करते हुए उसे हवा में ही ध्वस्त कर दिया था।

भारतीय वायुसेना की महिला अफसर मिंटी अग्रवाल की सतर्कता के कारण भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान को समय पर करारा जवाब दिया और उसको वापिस भागने पर मजबूर कर दिया था।

मिंटी अग्रवाल के सतर्कता और विंग कमांडर अभिनंदन की बहादुरी के लिए उनको स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर क्रमश युद्ध सेवा पदक और वीर चक्र से सम्मानित किया गया। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारतीय वायुसेना को पांच युद्ध सेवा पदक और सात वायुसेना पदक दिए गए।

Comments

Translate »