सचिन तेंदुलकर हमेशा मेरे लिए प्रेरणा रहे, मैं उनकी तरह ही बनना चाहता था: कप्तान कोहली

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने कहा, ” सचिन तेंदुलकर ने अपने खेल के कौशल के दम पर मैदान पर जो कुछ किया। वह जिस तरह बल्लेबाजी करते थे वो बाकी सभी से अलग थी। उनकी इसी बात ने मुझे प्रभावित किया। ”

मास्टर ब्लास्टर

अपने बल्ले से लगातार दमदार प्रदर्शन कर रहे टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली की तुलना मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से होने लगी है।

हालांकि कोहली हमेशा से इस तुलना दूरी बनाते रहे हैं। विराट ने कहा सचिन के साथ उनकी तुलना का कोई सवाल ही नहीं है। विराट ने कहा सचिन उनके बचपन के हीरो थे। विराट कहा ,सचिन हमेशा की उनके लिए प्रेरणा रहे हैं और वे उनकी तरह बनना चाहते थे।

सचिन की तरह बनना चाहता था

विराट कोहली  ने एक वेब शो ‘इन डेप्थ विद ग्राहम वेबसिंगर’ में कहा ,” मैंने कभी भी इस बात को छुपाने की कोशिश नहीं की है कि मैं अपने शुरूआती दिनों से ही सचिन की तरह बनना चाहता था। ”

मजेदार बल्लेबाजी

वेब शो में विराट कोहली ने कहा ,” मैं हमेशा कहता था कि यह काफी अलग है। उनका खेल मुझे इतना अच्छा लगता था कि मैं अपनी आंखें नहीं हटा पाता था। ऐसा कोई भी मैच जिसमें सचिन होते थे के शुरू होने से पहले ही में दुकान पर आ जाता था और चिप्स खरीद कर उनकी बल्लेबाजी का इंतजार करता रहता था। सचिन की बल्लेबाजी देखना भरपूर मजेदार होता था। मैं हमेशा लोगों से यही कहता था कि सचिन की तरह बनना चाहता हूं। जन्म दिन खास:सचिन तेंदुलकर के वो रिकॉर्ड जिनको कोई नही तोड़ सकता

भारतीय टीम

कप्तान विराट कोहली ने शो में कहा ,” मुझे एक बात याद है जब भारतीय टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच हार जाती थी तो मैं रात को सोते समय सोचता था कि अगर मैं टीम में होता तो मैच जिता देता ,ऐसा मेरे करियर में कई बार हुआ है। सचिन तेंदुलकर ने सौरव गांगुली को दादी बोलकर दी जन्मदिन की बधाई ,ट्वीट हुआ वायरल

कोहली ने आगे कहा , मैं मैदान में इस तरह नहीं जाना चाहता कि विपक्षी टीम के मन में यह बात आए कि यह शख्स तो कमजोर है और यह कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता। मैं ऐसा खिलाड़ी बनना चाहता था जो मैदान पर पहुंचे तो दूसरी टीम ये सोचे की हमें इसे आउट करना है नहीं तो हम मैच हार जाएंगे। ” सौरव गांगुली और सचिन तेंदुलकर बोले न्यूज़ीलैंड के खिलाफ धोनी को सातवें नंबर पर भेजना बड़ी गलती

Comments

Translate »