केंद्र सरकार के साथ आईटी नियमों की तकरार के बीच ट्विटर ने ब्लॉक किया सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकाउंट

0
केंद्र सरकार के साथ आईटी नियमों की तकरार के बीच ट्विटर ने ब्लॉक किया सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकाउंट
फोटोः रविशंकर प्रसाद

पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार और सोशल मीडिया के नए नियमों को लेकर टकराव के बीच ट्विटर ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद के अकाउंट को ब्लॉक कर दिया है।

केंद्रीय मंत्री ने खुद दी इस बात की जानकारी

आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने इस बात की जानकारी खुद दी है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि वह पिछले करीब 1 घंटे से अपने अकाउंट पर एक्सेस नहीं कर पा रहे थे। उन्होंने कहा है कि एक्सेस की कोशिश करने पर यह बताया गया कि उनके अकाउंट से अमेरिका के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट का उल्लंघन हुआ है। जबकि 1 घंटे बाद अकाउंट को फिर से बहाल कर दिया गया। सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने अपने अकाउंट को ब्लॉक करने को लेकर कहा कि सोशल मीडिया कंपनी ने आईटी नियमों के 4 (8) का उल्लंघन किया है

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मेरे ट्विटर अकाउंट को ब्लॉक करने से पहले वह किसी भी तरह की जानकारी देने से असफल रहे और यह नियम का उल्लंघन है। रविशंकर प्रसाद ने अकाउंट को ब्लॉक होने के दौरान और फिर एक्सेस मिलने के बाद का स्क्रीनशॉट शेयर किया है। अकाउंट चालू होने के बाद भी ट्विटर की तरफ से रविशंकर प्रसाद को चेतावनी दी गई है कि यदि भविष्य में उनके अकाउंट के खिलाफ कोई और नोटिस मिलता है तो उनका अकाउंट फिर से ब्लॉक हो सकता है या हमेशा के लिए सस्पेंड भी किया जा सकता है।

एक घंटे तक ब्लॉक रहा अकाउंट

रविशंकर प्रसाद ने ट्विटर पर कहा,” दोस्तों आज बहुत कुछ अनोखा हुआ।  ट्विटर ने करीब 1 घंटे तक मेरे अकाउंट का एक्सेस रोक दिया। उन्होंने अमेरिकी कानून के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट के कथित उल्लंघन का आरोप लगाया और उसके बाद उन्होंने मेरे अकाउंट को बहाल कर दिया।

उन्होंने आगे कहा कि ट्विटर का यह एक्शन दिखाता है कि वह अभिव्यक्ति की आजादी के अग्रदूत नहीं हैं। जैसा कि वे दावा करते हैं।  बल्कि वह केवल अपना एजेंडा चलाने में दिलचस्पी रखते हैं। इस धमकी से वह दिखाना चाहते हैं कि यदि आप उनकी द्वारा खींची गई रेखा पर नहीं चलते हैं तो वह आपको मनमाने ढंग से अपने प्लेटफार्म से हटा देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here