फिर वायरल हो रहा है नोटबंदी के दौरान 2000 के नोट में नैनो चिप वाला वीडियो

पीएम मोदी ने 8 नवंबर 2016 रात आठ बजे पूर्ण नोटबंदी की घोषणा की थी। जिसके बाद देश के प्रिंट और डिजिटल मीडिया में नोटबंदी की खूबियां बताने की होड़ लग गई थी। जिसका एक वीडियो आज भी भी वायरल हो रहा है।

नोटबंदी की घोषणा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को शाम के आठ बजे देश के सभी न्यूज़ चैनलों के माध्यम से नोटबंदी की घोषणा की थी। जिसका कारण देश में कालाबाजरी, जमाखोरी और आतंकवाद की कमर तोडना बताया गया था।

हालांकि पीएम मोदी की इस घोषणा के बाद गरीब वर्ग की ही कमर टूटी थी। बाकी उक्त तीनों समस्यांए आज भी जस की तस हैं। न कालाबाजारी रुकी , न कालाधन बाहर आया और न ही उग्रवाद खत्म हुआ। इसके अलावा और भी कई घोषणाएं की गई थी। आर्टिकल 370 खत्म होने के बाद भी जम्मू कश्मीर में हर रोज आतंकवाद की घहटनायें होती रहती हैं।

नोट में नैनो चिप

इन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात , उस समय देश का चौथा स्तंभ कहे जाने वाले प्रिंट और डिजिटल मीडिया ने नोटबंदी के इतने फायदे गिनाए की जनता को अहसास होने लगा था कि वास्तव में ये पीएम मोदी की केंद्र सरकार का मास्टर स्ट्रोक है। वो बात अलग है कि उस समय नोटबंदी के कारण बैंक और एटीएम की लाइनों में खड़े हुए 150 से भी ज्यादा लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था।

अब, नोटबंदी के दौरान का एक वीडियो फिर से वायरल होने लगा है। जिसमें एक मशहूर टीवी चैनल की एंकर ने 2000 के नोट में नैनो चिप लगी होने की बात कही थी। वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें।

सिग्नल

पत्रकार ने बड़ी बारीकी से समझाया था कि कैसे इनकम टैक्स विभाग के पास सिग्नल जाएगा और कालाधन संग्रह करने वाला पकड़ा जाएगा। उन्होंने समझाया था कि नोट में लगी हुई नैनों चिप का सिंग्नल सैटेलाइट के जरिए आयकर विभाग के पास जाएगा। पैसा बैंकों में रहेगा तो सिग्नल का कोई मतलब नहीं है। मिट्टी के नीचे 120 मीटर तक सिग्नल जाएगा।

Comments

Translate »