एडमिरल करमबीर सिंह ने संभाला नौसेना प्रमुख का पदभार

नौसेना के नए प्रमुख वाइस एडमिरल करमबीर सिंह ने विवादों के बीच नौसेना प्रमुख का पदभार संभाल लिया है।भारत की नौसेना के प्रमुख के रूप में आज शुक्रवार को वाइस एडमिरल करमबीर सिंह ने पदभार संभाल लिया है।

एडमिरल करमबीर सिंह

वाइस एडमिरल करमबीर सिंह ने एडमिरल सुनील लांबा का पदभार संभाला है। एडमिरल करमबीर सिंह ने पदभार संभालने के बाद कहा,”मुझसे पहले अधिकारियों ने सुनिश्चित किया है कि नौसेना के पास एक ठोस आधार है और ऊंचाइयों पर पहुंच गया है। मेरा प्रयास रहेगा कि मैं उनके प्रयासों को जारी रखूं और देश को ऐसी नौसेना प्रदान करूं, जो मजबूत, विश्वसनीय और समुद्री क्षेत्र में चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हो। ”

आपको बता दें,सरकार ने थलसेना की तरह नौसेना के चीफ को भी सीनियर के रहते हुए जूनियर को चीफ बनाया है। प्रमुख वाइस एडमिरल करमबीर सिंह से 6 महीने सीनियर वाइस एडमिरल बिमल वर्मा ने इसके खिलाफ ‘आर्म्ड फोर्सेज ट्रिब्यूनल’ में याचिका दायर कर रखी है।

वाइस एडमिरल बिमल वर्मा

29 मई को ट्रिब्युनल ने करमबीर सिंह के चीफ बनने को हरी झंडी दिखा दी थी,साथ में ट्रिब्युनल ने यह भी कहा था कि अंतिम फैसला वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की अर्जी के बाद होगा।

रिया वर्मा का ब्यान

सरकारी सूत्रों के हवाले मिली जानकारी के अनुसार वाइस एडमिरल बिमल वर्मा को नेवी चीफ न बनाए जाने का कारण उनका ऑपरेशनल कमांड का अनुभव न होना और पीवीएसएम न होना बताया गया गया है। नेवी वाररूम लीक मामले में की गई टिप्पणी भी इसका कारण हो सकती है। वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की बेटी रिया वर्मा ने मीडिया के सामने कहा कि सरकार के इस फैसले से हम संतुष्ट नहीं हैं।

Comments

Translate »