पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव से मुलाक़ात के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने दिया चौंकाने वाला बयान

पाकिस्तान के जेल में बंद भारतीय नागरिक ‘कुलभूषण जाधव’ के साथ मुलाक़ात के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक चौंकाने वाला बयान जारी किया है।

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक ‘कुलभूषण जाधव’ से भारतीय अधिकारी ने सोमवार के दिन मुलाक़ात की। ‘पाकिस्तान’ के विदेश मंत्रालय ने के दिन पहले कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच देने की बात कही थी। जिसके बाद यह मुलाक़ात संभव हुई। भारतीय अधिकारी ‘गौरव अहलूवालिया’ ने जाधव से मुलाक़ात की। कुलभूषण जाधव से मुलाक़ात के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी किया है। विदेश मंत्रालय ने बताया ,” कुलभूषण जाधव मुलाक़ात के दौरान काफी दबाव में थे। विस्तृत रिपोर्ट मिलने के बाद ही अगला कदम उठाया जाएगा। ”

भारत की तरफ ‘गौरव अहलूवालिया’ ने कुलभूषण जाधव से करीब दो घंटे मुलाक़ात की। पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को राजनयिक पहुंच अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के आदेश की बाद दी है। 49 वर्षीय कुलभूषण जाधव को साल 2017 में पाकिस्तान की ‘सैन्य अदालत’ ने आतंकवाद और जासूसी के आरोप में फांसी की सजा सुनाई थी। जिसपर अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के आदेश के बाद रोक लग गई थी। आईसीजे में कुलभूषण जाधव का पक्ष भारत के मशहूर वकील’ हरीश साल्वे’ रखा था। आईसीजे में 14-1 के मतों से ये फैसला भारत के पक्ष में आया था। जिसमें अंतरराष्ट्रीय कोर्ट कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर पाकिस्तान को एक बार फिर समीक्षा करने और राजनयिक पहुंच देने का आदेश दिया था।

Comments

Translate »