ब्रेन डेड लड़की ने अंगदान कर सेना के दो जवानों सहित पांच लोगों की बचाई जान

महाराष्ट्र के पुणे में एक हादसे का शिकार हुई ब्रेन डेड लड़की ने मरने से पहले अपने अंगदान कर पांच लोगों को नया जीवन दिया है। हादसा होने के बाद लड़की को पुणे के CHSC अस्पताल लाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे ब्रेन डेड घोषित कर दिया। जिसके बाद युवती के परिवार वालों ने अंगदान करने का फैसला लिया। लड़की के organs पांच लोगों में ट्रांसप्लांट किए  गए।

परिजनों की इच्छानुसार हुआ अंगदान

रक्षा मंत्रालय के जनसंपर्क अधिकारी ( PRO ) ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया ,” एक युवती द्वारा किए गए अंगदान ने पुणे कमांड हॉस्पिटल में सेना में सेवारत दो सैनिकों सहित पांच लोगों की जान बचाई है। दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बाद लड़की को उसके अंतिम चरण में अस्पताल लाया गया। अस्पताल में भर्ती होने से पहले ही सिर में चोट लगने के कारण उसका दिमाग मर चूका था। उसके परिवार ने इच्छा जताई कि युवती के अंगों को उन लोगों को दान किया जाए , जिनको इसकी सख्त जरूरत है। ”

दो जवानों की बची जान

सेना के अधिकारी ने कहा ,” युवती के परिजनों की मंजूरी के बाद दक्षिण कमान अस्पताल में डॉक्टरों की प्रत्यारोपण टीम को तुरंत सक्रिय कर दिया गया। ZTCC और AORTA टीमों को भेजा गया। ”

आर्मी ऑफिसर ने आगे बताया ,” 14 और 15 जुलाई को सुबह किडनी जैसे जरूरी अंगों को भारतीय सेना में सेवारत दो सैनिकों में प्रत्यारोपित किया गया। युवती की आँखों को कमांड अस्पताल के ‘आई बैंक’ में सरंक्षित किया गया। युवती के लिवर को पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक में एक मरीज को ट्रांसप्लांट किया गया। ‘

अंगदान करें

इस तरह इस दुनिया को अलविदा कहने से पहले युवती ने पांच लोगों की जान बचाई है। पीआरओ ने लोगों को संदेश देते हुए कहा कि अपने अंगों को स्वर्ग में मत ले जाओ। भगवान जानता है कि हमें उनकी यहां जरूरत है।

Comments

Translate »