चुप्पी तोड़ो आगे आओ मिलकर नया समाज बनाओ के नारों से गूंज उठा सोनीपत

देश में बढ़ती हुई महिलाओं के उत्पीड़न,हिंसा और रेप की घटनाओं को लेकर प्रधानमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

चुप्पी तोड़ो आगे आओ मिलकर नया समाज बनाओ के नारों से गूंजा शहर

आज सोनीपत शहर के विभिन्न प्रगतिशील संगठन,युवा संगठन,छात्र संगठन महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा छेड़खानी की घटनाओं के विरोध में अंबेडकर पार्क बस स्टैंड के पास सुबह एकत्रित हुए और बड़ी संख्या में वहां से नारे लगाते हुए लघु सचिवालय पहुंचे।

चुप्पी तोड़ो आगे आओ मिलकर नया समाज बनाओ के नारों से गूंज उठा सोनीपत
फोटोः नागरिक अधिकार मंच सोनीपत

सोनीपत लघु सचिवालय पर उन्होंने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन एसपी महोदय को सौंपा जिसमें देश में बढ़ रहे महिलाओं के प्रति हिंसा,यौन शोषण और बलात्कार की घटनाओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई।एसपी महोदय से आग्रह किया गया  कि सोनीपत के सभी बाजारों को सुरक्षित बनाने में पुलिस प्रशासन सहयोग दें औऱ शहर की  सुरक्षा को पुख्ता करें।

छात्रा रूबी ने एस पी महोदय के सामने मांग रखी कि कॉलेज और आईटीआई की छात्राओं के लिए शाम के समय गांवों के लिये जो पहले बस सुविधा थी अब सरकार ने उसे बंद कर दिया है वह दुबारा से शुरू करवाई जाए।

छात्र अभविवाक संघ ने मांग रखी गई कि कॉलेजों के बाहर और स्कूलों के बाहर विशेषकर लड़कियों के कॉलेज के बाहर छुट्टी के समय पुलिस विशेष गस्त करे।उन्होंने शिकायत की है कि शाम के समय पार्कों में और कालोनियों में गुंडा तत्व की मौजूदगी माहौल को असुरक्षित बनाती है। इस पर पुलिस सख्त कार्रवाई करें और निगरानी बढ़ाए।

वहीँ एक और प्रदर्शनकारी मुकेश ने कहा कि  पुलिस प्रशासन और जनता के बीच संवाद की बात की पुलिस को लेकर भी आम जनता में भय का माहौल है।जिसके चलते वह अपनी बात खुलकर पुलिस तक नहीं पहुंचा पाते इसका फायदा असामाजिक तत्व उठाते हैं।

बड़ी संख्या में आई कॉलेज की छात्राओं ने कहा उनके साथ होने वाली छेड़खानी की घटनाओं को आमतौर पर वे किसी के सामने नहीं रखती।क्योंकि उन्हें डर है उसके बाद उनकी आगे की पढ़ाई का रास्ता रुक सकता है। मां-बाप सुरक्षा के नाम पर उनके आगे की पढ़ाई छुड़वा देंगे। इस सब के चलते भी असामाजिक और गुंडा तत्वों को बल मिलता है।

इस पर विमल किशोर ने कहा कि लड़कियों को और महिलाओं को उनके साथ होने वाली छेड़खानी के ख़िलाफ़ आवाज चाहिए।किसी भी ऐसी घटना के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए जो महिलाओं के सम्मान को ठेस पहुंचाती हो।साथ ही माता-पिता को भी बच्चों से लगातार बातचीत करनी चाहिए जिससे बच्चों के अंदर एक विश्वास की भावना पैदा हो।छात्र एकता मंच से सुमीत ने कहा की अशलील गीत,विडियों औरचित्रों पर रोक लगायी जाये।

इस अवसर पर कामरेड ईश्वर सिंह राठी ने कहा वर्तमान व्यवस्था में अश्लील संस्कृति और शराब को बढ़ावा दिया जा रहा है। जिसके चलते आज का युवा वर्ग इस तरह की गतिविधियों में शामिल होता चला जा रहा है।

आज के विरोध प्रदर्शन में छात्र अभिभावक संघ, SUCI,CPI,CPM, नौजवान भारत सभा, छात्र एकता मंच भारतीय किसान मंच, ब्रेकथ्रू एवं विभिन्न सामाजिक संगठनों ने नागरिक अधिकार मंच के बैनर तले रोष प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

 

 

 

Comments

Translate »