डायबिटीज के रोगियों के लिए रामबाण औषधि है अलसी के बीज

आज के दौर में मधुमेह की समस्या आम हो गई है। मधुमेह का कोई व्यापक इलाज नहीं है। इसे सिर्फ खानपान में बदलाव करके ही नियंत्रण में रखा जा सकता है।

आज के दौर में मधुमेह की बीमारी हर पांचवें आदमी में पाई जाती है। यह एक मेटाबॉलिक डिसऑर्डर है। जो शरीर को धीरे-धीरे खोखला कर देता है। जिसकी वजह से ब्लड शुगर का लेवल बढ़ने लगता है। जिसे टाइप टू डायबिटीज कहा जाता है। दरअसल शरीर की अग्नाशय ग्रंथि के ठीक से काम ना करने पर मधुमेह की समस्या होती है। डायबिटीज में सीने में दर्द, चक्कर आना ,सिर दर्द ,बुखार, अंधापन और दिल का दौरा पड़ना जैसी बीमारियों की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है। इस बीमारी का कोई ज्ञात इलाज नहीं है। इसको सिर्फ अपने खान-पान में बदलाव करके ही नियंत्रण में रखा जा सकता है। आइए जानते हैं अलसी के बीज से आप डायबिटीज को कैसे कंट्रोल में कर सकते हैं।

अलसी के बीज

अलसी के बीजों में फाइबर, प्रोटीन,एंटीऑक्सीडेंट, जिंक, आयरन ओमेगा 3 ,फैटी एसिड और कई तरह के जरूरी विटामिन होते हैं। जो शुगर लेवल को कम करने में मदद कर सकते हैं। ऐसे करें सेवन अगर आप मधुमेह के मरीज हैं तो आप अलसी के बीजों को नाश्ते में स्नेक्स में रोस्ट करके खा सकते हैं। रोस्टेड अलसी के बीज न केवल खाने में स्वादिष्ट लगते हैं बल्कि डायबिटीज को कंट्रोल भी करते हैं।

सलाद

नाश्ते में फलों का सलाद सेवन करने से डायबिटीज को कम करने में बहुत फायदा मिलता  है। अगर आप मधुमेह के मरीज हैं तो अपने फ्रूट सलाद में अलसी के बीज डालकर इसका सेवन करें। ब्रेड में अलसी के बीज सुबह के नाश्ते में सबसे पसंदीदा आइटम में से एक ब्रेड है। सुबह सबसे ज्यादा ब्रेकफास्ट में ब्रेड को पसंद किया जाता है। क्योंकि इसको बनाने में ज्यादा समय नहीं लगता है। अगर आप भी ब्रेड खाने के शौकीन हैं तो ब्राउन ब्रेड में अलसी के बीजों को शामिल कर मधुमेह को नियंत्रण में रख सकते हैं।

ओट्स के साथ अलसी

सुबह के नाश्ते में ओट्स का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है। अगर आप शुगर के मरीज हैं तो आप अपने ओट्स में अलसी के बीजों को डाल कर खा सकते हैं। इससे आपको बहुत लाभ मिलेगा।

Comments

Translate »