मिशन शक्ति के बाद ISRO ने EMISAT रक्षा उपग्रह किया लांच

इसरो ने श्रीहरिकोटा से 28 अन्य उपग्रहों के साथ ईएमआईएसएटी रक्षा उपग्रह लॉन्च किया है। इसरो के
PSLV-C45 ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से वैश्विक ग्राहकों के 28 नैनो उपग्रहों के साथ
EMISAT उपग्रह को लांच किया है।

इसरो के PSLV-C45 ने श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से वैश्विक ग्राहकों के 28 नैनो उपग्रहों के
साथ EMISAT उपग्रह को लांच किया। भारत को इस मिशन से रक्षा क्षेत्र में बढ़त मिलने की संभावना है।
यह उपग्रह दुश्मन के राडार का पता लगाने में सक्षम होगा। EMISAT उपग्रह का लक्ष्य विद्युत चुम्बकीय माप है।

ये इंडियन कोस्ट रिसर्च ऑर्गनाइजेशन की अंतरिक्ष में 47वीं उड़ान है। इस मिशन का श्रेय अंतरिक्ष एजेंसी को
जाता है। इसरो के अनुसार, पहले चरण में चार स्ट्रैप-ऑन मोटर्स से लैस रॉकेट PSLV-QL का एक नया संस्करण
लॉन्च के लिए उपयोग किया गया।

सोमवार के मिशन में, इसरो के वैज्ञानिक उपग्रह और पेलोड को तीन अलग-अलग कक्षाओं में रखेंगे, जो एजेंसी के
लिए पहली बार होगा। इस पहल के दौरान, सभी अन्य 28 ग्राहक उपग्रहों को पूरी तरह से 220 किलोग्राम वजन के
साथ अंतरिक्ष में भेजा गया।

अन्य 28 अंतरराष्ट्रीय उपग्रह – 25 3U प्रकार, दो 6U प्रकार और एक 2U प्रकार नैनो उपग्रह – लिथुआनिया के दो स्पेन
का एक, स्विट्जरलैंड का एक और संयुक्त राज्य अमेरिका के 24 से हैं।

Comments

Translate »