Bulli Bai App केस के मुख्य आरोपी नीरज बिश्नोई ने किए कई चौंकाने वाले खुलासे

बुल्ली बाई एप मामले में गिरफ्तार नीरज बिश्नोई ने पुलिस की पूछताछ के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। आरोपी नीरज ने बताया कि उसे महज 15 साल की उम्र से ही वेबसाइट हैकिंग का शौंक था। बिश्नोई ने पुलिस पूछताछ के दौरान बताया कि उसने भारत और पाकिस्तान की कई वेबसाइट को हैक किया है।

मुंबई पुलिस की साइबर सेल द्वारा बुल्ली बाई एप मामले में कुल चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में अरेस्ट किए गए चार लोगों के नाम विशाल कुमार झा , श्वेता सिंह , मयंक रावत और मुख्य साजिशकर्ता नीरज बिश्नोई हैं। इन चरों ने मिलकर बुल्ली बाई एप को डेवलप , डिजाइन और सोशल मीडिया पर वायरल किया। बुल्ली बाई एप के जरिए मुस्लिम महिलाओं की कथिततौर पर ऑनलाइन नीलामी की। मुंबई पुलिस की साइबर सेल के अनुसार इस मामले में सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तार किए चारों आरोपियों में से मुख्य आरोपी नीरज बिश्नोई ने पुलिस की पूछताछ के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

नीरज ने किए चौंकाने वाले खुलासे

नीरज बिश्नोई से पूछताछ के बाद डीसीपी IFSO केपीएस मल्होत्रा ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया कि आरोपी ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। डीसीपी मल्होत्रा ने कहा ,” नीरज बिश्नोई ने खुलासा किया है कि उसे 15 साल की उम्र से ही वेबसाइटों को हैक करने, खराब करने और सीखने की आदत है। उसने भारत के साथ-साथ पाकिस्तान के कई स्कूलों और विश्वविद्यालयों की विभिन्न वेबसाइटों को हैक करने का दावा किया है। ”

आरोपी नीरज बिश्नोई ने खुलासा किया था कि वह ट्विटर हैंडल sullideals के निर्माता के संपर्क में था। जिसने GitHub पर सुल्लीडील्स एप बनाया था और उसने इसका प्रचार भी किया था।

गुरुमुखी लिपि को क्यों चुना ?

बुल्ली बाई एप मामले में गिरफ्तार बिश्नोई ने पुलिस पूछताछ के दौरान बताया  कि उसने गुरुमुखी लिपि को चुना था क्योंकि उसे देवनागरी की तुलना में यह ज्यादा प्रभावशाली लगी। यही नहीं उसने दो बार खुद को नुकशान पहुंचाने की भी कोशिश की और आत्महत्या करने की भी धमकी दी। पुलिस अधिकारी के अनुसार उसका पूरा ख्याल रखा जा रहा है।

Comments

Translate »