Bulli Bai App मामले में बेंगलुरु के छात्र विशाल झा के बाद पुलिस ने 18 वर्षीय श्वेता सिंह को उत्तराखंड से गिरफ्तार किया

महाराष्ट्र की मुंबई पुलिस ने Bulli Bai App मामले में बेंगलुरु से विशाल कुमार झा को गिरफ्तार किया था। मंगलवार के दिन बुल्ली बाई एप मामले में दूसरी गिरफ्तारी हुई है। इस मामले में उत्तराखंड के रुद्रपुर शहर से 18 वर्षीय 12वीं पास लड़की को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार की गई लड़की का नाम श्वेता सिंह है।

पुलिस हाथ लगी बड़ी कामयाबी

बुल्ली बाई एप मामले में अब तक दो आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। बेंगलुरु से मुंबई लाए गए इंजीनियरिंग के छात्र विशाल झा के बाद उत्तराखंड से एक युवती श्वेता सिंह को गिरफ्तार किया गया है। मुंबई में विशाल कुमार झा  को गिरफ्तारी के बाद अदालत में पेश किया गया। जहां से उसे 10 जनवरी तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है।  श्वेता सिंह पर पुलिस को इस केस में मुख्य सरगना होने का संदेह है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। विशाल कुमार झा लगातार श्वेता सिंह के संपर्क में था।

सोमवार के दिन हुई थी पहली गिरफ्तारी

इंजीनियरिंग के छात्र को सोमवार के दिन बेंगलुरु से मुंबई लाने के बाद उससे लगातार पूछताछ की जा रही है। यह मामला एप पर महिलाओं की नीलामी के लिए तस्वीरें अपलोड करने से जुड़ा है। कहा जा रहा है कि इस मामले में एक अन्य शख्स से पूछताछ चल रही है।

सिख समुदाय का कोई संबंध नहीं

पुलिस ने कहा कि बुल्ली बाई ऐप में सिख समुदाय का कोई संबंध नहीं है। आरोपियों ने जानबूझकर एप को सिख एंगल दिया था। उन्होंने कहा कि गिरफ्तार आरोपी विशाल झा मुख्य आरोपी के संपर्क में था। मामले में एक युवक को हिरासत में लिया गया। मुंबई पुलिस ने गिट हब  के प्लेटफार्म पर ऐप पर नीलामी के लिए मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड किए जाने की शिकायत मिलने के बाद अज्ञात लोगों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज की थी।

रुद्रपुर से गिरफ्तार किया

मुंबई पुलिस ने जिस महिला को उत्तराखंड के रुद्रपुर से गिरफ्तार किया है। उसकी उम्र महज 18 वर्ष बताई जा रही है।  उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि वह 12वीं पास छात्रा है। जिसको उधम सिंह नगर जिले के एक स्थानीय मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया है। हालांकि बुल्ली बाई एप प्रकरण में आरोपी महिला की स्टिक भूमिका अभी तक स्पष्ट नहीं है। मुंबई पुलिस के विशिष्ट अधिकारियों ने उसकी कथित भूमिका के बारे में कोई जानकारी देने से इनकार कर दिया है।

डीजीपी अशोक कुमार ने लड़की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। लेकिन इस बात पर जोर दिया है कि राज्य पुलिस उस टीम का हिस्सा नहीं थी जिसने उससे पूछताछ की थी। डीजीपी कुमार ने बताया कि उत्तराखंड पुलिस ने आरोपी से पूछताछ नहीं की क्योंकि जांच केवल मुंबई पुलिस द्वारा की जा रही है। जो मामले की विवरण के बारे में जानकारी जानती है। मुंबई पुलिस अभी इस बात की भी जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रही है कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया ?

बता दें कि इस मामले में सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की उनकी अनुमति के बिना तस्वीरों से छेड़छाड़ कर बुल्ली बाई ऐप पर नीलामी के लिए सूचीबद्ध किया गया था। यह एक साल में दूसरी बार हुआ है। यह एप सुल्ली डील की तरह है। सुल्ली डील्स के कारण साल 2021 में काफी विवाद पैदा हुआ था ।

Comments

Translate »