अब नहीं जलेगी इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति की मशाल,राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में मिला दिया गया

दिल्ली के इंडिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति की लौ आज बुझ जाएगी। यह मशाल नेशनल वॉर मेमोरियल की मशाल में मिल जाएगी।

इंडिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति मशाल आज शाम शुक्रवार के दिन हमेशा के लिए बुझ जाएगी। मशाल को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की मशाल के साथ मर्ज किया जाएगा। पीएम नरेंद्र मोदी के इस ऐतिहासिक फैसले का जहां सेना के पूर्व अधिकारीयों सहित बहुत लोग समर्थन कर रहे हैं ,वहीँ विपक्ष विरोध कर रहा है।

समर्थन में उतरे लोग

अमर जवान ज्योति मशाल के राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की मशाल के साथ मिलाने पर भारतीय थलसेना के रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल विनोद भाटिया ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा ,” आज एक महान अवसर है जो इंडिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध समारक की मशाल के साथ मिलाया जा रहा है। यह एक अच्छा फैसला है। अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में मिलाने का समय आ गया है। ”

राहुल गांधी ने किया विरोध

भारत सरकार के इस फैसले का कांग्रेस पार्टी ने विरोध किया है। कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्वीट कर विरोध जताया है। राहुल गांधी ने लिखा ,” बहुत दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो अमर ज्योति जलती थी ,उसे आज बुझा दिया दिया जाएगा। कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते -कोई बात नहीं हम अपने सैनिकों के लिए अमर जवान ज्योति एक बार फिर जलाएंगे। ”

सरकार की दलील

वहीँ, केंद्र सरकार ने अमर जवान ज्योति के राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय करने के पीछे के कारण बताए हैं। सरकारी सूत्रों ने कहा ,” अमर जवान ज्योति की लौ बुझ नहीं रही है। इसे राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की ज्वाला में मिला दिया जा रहा है। यह देखना एक अजीब बात थी कि अमर जवान ज्योति की लौ ने 1971 और अन्य युद्धों के शहीदों को श्रद्धांजलि दी, लेकिन उनका कोई भी नाम वहां नहीं है। ”

1971 और उसके पहले और बाद के युद्धों सहित सभी युद्धों के सभी भारतीय शहीदों के नाम नेशनल वॉर मेमोरियल में रखे गए हैं। इसलिए शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करना एक सच्ची श्रद्धांजलि है। : केंद्र सरकार ने कहा।

Comments

Translate »