कोरोना संक्रमित केवल 2 फ़ीसदी, भूख से कितने मरे: जस्टिस मार्कण्डेय काटजू

भारत में कोरोना वायरस महामारी की वजह से अब तक 640 लोगों की मौत हो चुकी है। इसी से जुड़ा सवाल भारत के पूर्व सीजेआई मार्कण्डेय काटजू ने किया है।

मिनिस्ट्री ऑफ़ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर के आंकड़ों अनुसार भारत में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 19984 है। जिनमें से 3869 लोग ठीक हो चुके और एक को माइग्रेट कर दिया हैं। इसी कुल आंकड़े में से 640 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना वायरस के सामुदायिक प्रसार पर रोक लगाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के ऐलान के बाद देश में लॉकडाउन चल रहा है। जिसकी वजह से देश के सभी उद्योग-धंधे बंद होने और दिहाड़ी मजदूरी नहीं होने के कारण गरीब और मजदूर वर्ग पर इसका असर पड़ रहा है।

हालांकि केंद्र सरकार ने,गरीबों और जरूरतमंदों के लिए राशन मुहैया कराने के लिए राज्य सरकारों को निर्देश दिए हैं और काफी लोगों को इसका लाभ मिल रहा है। लेकिन कुछ लोगों तक सरकार द्वारा दी गई सुविधाएँ अब तक भी नहीं पहुंच पा रही हैं।

देश में फैले कोरोना संकट के बीच भारत के पूर्व नयायधीश मार्कण्डेय काटजू ने अपने ट्विटर एकाउंट के माध्यम से एक सवाल पूछा है। उन्होंने पूछा कोरोना वायरस से संक्रमित केवल दो फ़ीसदी लोग मरते हैं। ये भी पढ़ें : जानिए क्या है कोरोना का मतलब और ये किस परिवार से है

 

मार्कण्डेय काटजू ने ट्विटर पर लिखा ,” कोरोना से संक्रमित केवल दो प्रतिशत लोग मरते हैं ,बाकि ठीक हो जाते हैं। क्या किसी ने गणना की है कि हर साल, फ्लू,मलेरिया ,टीबी , डेंगू से कितने प्रतिशत भारतीय मरते हैं ? भारत में कोरोना वायरस से कितने मरे और इस अवधि के दौरान पूर्वोक्त बीमारियों से क्तिने मरे ? भूख से कितने मरे ?”

Comments

Translate »