रूपये में ऐतिहासिक गिरावट, पहली बार 80 पार

19 जुलाई 2022 को भारतीय रूपये में ऐतिहासिक गिरावट आई है। मंगलवार के दिन भारतीय रुपया एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 80 के स्तर तक गिर चूका है। जैसा की पहले से आशंका जताई जा रही थी, रुपया डॉलर के मुकाबले गिरावट का स्तर 80 पार कर गया है।

रुपया हुआ 80 पार

मंगलवार के दिन भारतीय रूपया 80 रूपये प्रति डॉलर के अब तक के सबसे निम्न स्तर पर गिर गया है। रूपये का यह सर्वकालिक निम्न स्तर है। पिछले कई महीनों से रूपये एक स्तर लगातार गिरता जा रहा है। पिछले आंकड़ों को देखते हुए आशंका जताई जा रही थी कि रुपया अमेरकी डॉलर के मुकाबले 80 के निम्न स्तर को पार कर जाएगा।

पहले से जताई जा रही थी आशंका

सोमवार के दिन रुपया 79.97 रूपये प्रति डॉलर के स्तर पर बंद हुआ था। आज मंगलवार के दिन रुपया 79.98 के मूल्य पर खुला। जिसके कुछ देर बाद ही रुपया छलांग लगाते हुए 80.05 के निम्न स्तर पर पहुंच गया। 80.05 का सबसे हाई लेवल पार करने के बाद रुपया इस समय 79.93 पर ट्रेंड कर रहा है।

अगर पिछले सत्र की बात करें तो सोमवार के दिन भारतीय रुपया , अंतराष्ट्रीय विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 16 पैसे की गिरावट की साथ 79.98 पर बंद हुआ था। आर्थिक विशेषज्ञों के अनुसार, भारतीय रूपये में गिरावट का कारण भारत से विदेशी पूंजी की लगातार निकासी और कच्चे तेल के दामों में तेजी आना है।

आपको बता दें , सोमवार के दिन लोकसभा में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक लिखीत जवाब में रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा था कि 31 दिसंबर 2014 के मूल्य के मुकाबले रूपये में 25 फीसदी तक की गिरावट आई है।

वित्त मंत्री ने बताई ये वजह

साल 2014 में डॉलर के मुकाबले भारतीय रूपये की कीमत 63.33 थी। जोकि 11 जुलाई 2022 को 79.41 रूपये प्रति डॉलर दर्ज हुई। केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि रूपये में गिरावट के पीछे वैश्विक आर्थीक मंदी, रूस और यूक्रेन का युद्ध और अंतरष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें हैं।

Comments

Translate »