Video: बारिश के मौसम में खेती करने निकली शहनाज़ गिल, पहले किसानों के साथ रोपी धान और फिर बारिश में जमकर भीगी 

वीडियो में शहनाज़ गिल पहले तो किसानों के साथ मिलकर खेत में धान रोपती है ।इसके बाद वे वॉटरफॉल की तलाश में काफी दूर तक पैदल चलते हुए नजर आती है ।आख़िरकार जब शहनाज़ को वॉटरफॉल दिख जाता है, तो उनके चेहरे की ख़ुशी देखने लायक होती है ।

शहनाज़ गिल सोशल मीडिया पर खूब एक्टिव रहती है ।शहनाज़ अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से तो अक्सर वीडियो और तस्वीरें साझा करती ही रहती है लेकिन इसके अलावा वे अपने यूट्यूब चैनल से भी अपनी रोजमर्रा लाइफ से जुड़े व्लॉग शेयर करती रहती है ।हाल ही में शहनाज़ ने एक ट्रैकिंग व्लॉग शेयर किया है ।इस व्लॉग में शहनाज़ प्रकृति के बीच आकर बेहद खुश नजर आ रही है ।

शहनाज़ ने खेतों में लगाई धान

व्लॉग की शुरुवात में शहनाज़ किसानो के साथ खेतों में धान रोपते हुए नजर आ रही है ।इसके बाद वे किसानो के साथ बातचीत करती है और उनके साथ खाना खाते हुए दिखाई दे रही है ।इस दौरान एक्ट्रेस जमकर जलेबी का लुफ्त उठाते हुए नजर आ रही है ।खाना खाने के बाद शहनाज़ फिर से धान रोपाई के काम में जुट जाती है ।इस दौरान वहां बहुत तेज बारिश हो रही है और सना भी बाकि किसानों की तरह सिर पर पन्नी ओढ़कर काम करते हुए नजर आ रही है ।खेतों में धान रोपने के बाद शहनाज़ गिल वापिस जाने लगती है, लेकिन तभी वे देखती है कि उनकी चप्पल में मिट्टी लग गई है ।तभी शहनाज़ क्यूट सा फेस बनाते हुए कहती है कि इसे साफ करना पड़ेगा वर्ना ‘मम्मी मारेगी।’

बेहद खुश नजर आई शहनाज़

धान रोपने के बाद शहनाज़ निकल पड़ती है वाटरफॉल देखने के लिए ।इस दौरान शहनाज़ को कह रही है कि ‘आज मैं फुल मजे कर रही हूँ, अलग जिंदगी जी रही हूँ ।पहले मैं चावल लगाने गई थी और अब मैं माउंटेन फॉल देखने जा रही हूँ ।इसी की कहते है लाइफ ।मुझे लगता है कि हम सबको को ये लाइफ एन्जॉय करनी चाहिए ।

कुछ दूर तक चलने के बाद शहनाज़ कहती है कि ‘मुझे लग रहा है कि मैं अकेली हूँ ।अकेली हूँ लेकिन खुश हूँ, ऐसी फीलिंग है मेरी ।कभी कभी हमें खुद को टाइम देना चाहिए, क्योंकि जब हम खुद के साथ टाइम बिताते है तो हमें अंदर से शांति मिलती है, जो बहुत जरुरी है हम सबके लिए ।

आख़िरकार शहनाज़ को मिल ही गया वाटर फॉल

इसके बाद शहनाज़ वाटर फॉल की तलाश में निकल पड़ती है ।ट्रैकिंग करते करते वे बहुत थक जाती है और उनके पैर में चोट भी लग जाती है ।परंतु फिर भी शहनाज़ हार नहीं मानती और आख़िरकार वे वाटरफॉल तक पहुंच ही जाती है ।खूबसूरत झरने को देख शहनाज़ काफी खुश नजर आती है और इसके बाद वे अपने घर लौट जाती है ।

Comments

Translate »