पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे पूर्व बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन रद्द

वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे पूर्व बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन रद्द हो गया है। चुनाव आयोग ने किया रद्द।

चुनाव आयोग ने यूपी के वाराणसी से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले बीएसएफ के बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन रद्द कर दिया है। नामांकन रद्द होने के बाद तेज बहादुर ने कहा कि नामांकन को गलत तरीके से रद्द किया गया है। तेज बहादुर ने कहा कि मैंने सभी सबूत दिए थे लेकिन तानाशाही तरीके से मेरा नामांकन रद्द कर दिया गया है।

तेज बहादुर यादव ने नामांकन रद्द होने के बाद मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि मैंने चुनाव आयोग से कहा था कि मैं कोई अंबानी नही हूं जो इतने कम समय में सुचना ले आऊं। तेज बहादुर यादव ने बताया कि मुझे कल शाम सवा छह बजे चुनाव आयोग ने सबूत देने के लिए कहा था। हमने सभी सबूत तैयार कर लिए फिर भी मेरा नामांकन रद्द कर दिया गया। मैं चुनाव आयोग के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाऊंगा।

आपको बता दें,प्रधान मंत्री मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे तेज बहादुर यादव की उम्मीदवारी पर उस समय खतरे के बादल मंडराने लगे थे जब उन्होंने अपने हलफनामें में दो अलग-अलग जानकारी दी थी। यादव ने पहले निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा था बाद में समाजवादी पार्टी ने उनको अपनी पार्टी का चुनाव निशान देते हुए टिकट दे दिया था। सपा ने वाराणसी से अपनी उम्मीदवार शालिनी यादव को हटाने का मन बना लिया था।

तेज बहादुर यादव ने पहले निर्दलय उम्मीदवार के तौर पर भरे हलफनामें में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स से बर्खास्तगी के बारे में बताया था। लेकिन जब तेज बहादुर ने समाजवादी पार्टी के टिकट से हलफनामा भरा तो उसमें बर्खास्तगी का जिक्र नही किया। रिटर्निंग अफसर के संज्ञान में यह जानकारी आने के बाद उन्होंने तेज बहादुर को नोटिस भेजा।

Comments

Translate »