IRS अधिकारी समीर वानखेड़े के खिलाफ जालसाजी के आरोप में FIR दर्ज

आईआरएस अधिकारी समीर वानखेड़े के खिलाफ उम्र छिपाकर बार लाइसेंस लेने के आरोप में FIR दर्ज की गई है। ठाणे जिला के कोपारी पुलिस स्टेशन में वानखेड़े पर शपथ पत्र में झूठी सुचना देने, जालसाजी और धोखाधड़ी मामले में एफआईआर दर्ज की गई है।

पिछले दिनों महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने आरोप लगाया था कि समीर वानखेड़े के पास मुंबई में एक होटल है। जिसके लिए उन्होंने कम उम्र ही लाइसेंस प्राप्त किया था। नवाब ने दावा किया था कि समीर उस समय मात्र 17 साल के थे जब उन्हें नवी मुंबई में सद्गुरु होटल एवं बार का लाइसेंस मिला था।

समीर ने कम उम्र में प्राप्त किया लाइसेंस

शुरूआती जांच में पता चला कि समीर वानखेड़े को 27  अक्टूबर 1997  को एक एक बार एवं रेस्तरां का लाइसेंस दिया गया था। उस समय समीर वानखेड़े महज 17 वर्ष का था। जबकि बार का लाइसेंस लेने के लिए कम से कम उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए। आपको बता दें कि इसी साल के शुरू में समीर वानखेड़े के बार एवं रेस्तरां शराब का लाइसेंस ठाणे के जिला कलेक्टर ने रद्द कर दिया था। नवी मुंबई के वाशी इलाके में समीर वानखेड़े और उसके परिवार का सद्गुरु बार एवं रेस्तरां है।

पहले भी विवादों में रहे समीर वानखेड़े

आईआरएस अधिकारी समीर वानखेड़े पर इससे पहले भी आरोप लग चुके हैं। बात उस समय की है जब क्रूज ड्रग मामले में बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था। उस समय समीर पर आर्यन खान को छोड़ने की एवज में 25 करोड़ रूपये लेने का आरोप लगा था। इस बात का खुलासा किरण गोसावी के बॉडीगॉर्ड प्रभाकर सेल ने किया था।

प्रभाकर ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि शाहरुख़ खान के बेटे आर्यन को छोड़ने की डील 25 करोड़ रूपये में हुई थी। अंत में 18 करोड़ में डील फाइनल हुई थी। जिसमें से 8 करोड़ रूपये समीर वानखेड़े को मिलने थे।

सेल के इस दावे के बाद महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने समीर के खिलाफ एक के बाद एक कई खुलासे किए थे। जिसके बाद वानखेड़े की मुश्किलें बढ़ गई थी। उन्हें आर्यन खान ड्रग केस की जांच से हटा दिया गया था। नवाब ने कहा था कि समीर ने दो शादियां की हुई हैं और फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर एनसीबी में नौकरी पाई थी।

Comments

Translate »