भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर के केरन सेक्टर में पाकिस्तान द्वारा तस्करी किए गए हथियारों का बड़ा जखीरा बरामद किया

0
भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर के केरन सेक्टर में पाकिस्तान द्वारा तस्करी किए गए हथियारों का बड़ा जखीरा बरामद किया

जम्मू कश्मीर के केरन सेक्टर में भारतीय सेना ने पाकिस्तान की बड़ी साजिश को नाकाम किया। आतंकवादियों ने किशन गंगा नदी के तट पर हथियारों की तस्करी करने की कोशिश की,जिसको सेना ने नाकाम कर दिया।

पाकिस्तान की बड़ी साजिश को सेना ने नाकाम किया

शुक्रवार रात को भारतीय सेना के हाथ बड़ी कामयाबी लगी है। इंडियन आर्मी ने पाकिस्तान की बड़ी साजिश को नाकाम करते हुए हथियारों का बड़ा जखीरा बरामद किया है।

‘केरन सेक्टर में भारतीय सेना ने किशन गंगा नदी के तट पर संदिग्ध हलचल देखी। जिसके बाद तुरंत जम्मू कश्मीर पुलिस के साथ एक संयुक्त अभियान शुरू किया गया। नदी के दूसरे किनारे से रस्सी से बंधे ट्यूब में कुछ वस्तुओं को ले जाने की कोशिश करते हुए 2-3 आतंकवादियों का पता लगाया गया। सैनिकों ने वहां पहुंचकर हथियार बरामद किए।’ सेना के एक अधिकारी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया।

लेफ्टिनेंट जनरल बी.एस. राजू ने हथियारों का जखीरा पकड़े जाने क्या है ?

“इस वर्ष, हम घुसपैठ को काफी हद तक विफल करने में सफल रहे हैं। पिछले साल घुसपैठ का आंकड़ा (पाकिस्तान से) 130 के आसपास था, इस साल यह 30 से कम है। मेरा मानना ​​है कि इससे आंतरिक स्थिति को भी सुधारने में मदद मिलेगी।” लेफ्टिनेंट जनरल बी.एस. राजू, जीओसी चिनार कोर ने एजेंसी को बताया।

लेफ्टिनेंट जनरल बी.एस. राजू ने कहा, “हमारे सतर्क सैनिकों ने निगरानी उपकरणों का उपयोग करते हुए, पाकिस्तान द्वारा तस्करी किए जा रहे हथियारों का एक जखीरा पकड़ा। इससे पता चलता है कि पाकिस्तान के इरादे एक जैसे हैं। हम भविष्य में भी उनके बुरे इरादों से लड़ते रहेंगे।”

“हमारी खुफिया एजेंसियों के अनुसार, पाकिस्तानी सीमा पर लॉन्चपैड पर लगभग 250-300 आतंकवादी हैं। हम उनके नियमित प्रयासों (घुसपैठ करने की कोशिश) के बावजूद उन्हें उस तरफ घाटी में रखने में सक्षम हैं। ” जीओसी चिनार कोर ने कहा।

पकड़े गए ये हथियार

पाक अधिकृत कश्मीर के रास्ते तस्करी किए गए जिन हथियारों को इंडियन आर्मी ने पकड़ा है, उनमें 240 AK 47 और भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here