महाराष्ट्र बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी के लिए पुलिस रवाना, सीएम उद्धव ठाकरे के खिलाफ की थी आपत्तिजनक टिप्पणी

0
महाराष्ट्र बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी के लिए पुलिस रवाना, सीएम उद्धव ठाकरे के खिलाफ की थी आपत्तिजनक टिप्पणी
फोटोः केंद्रीय मंत्री नारायण राणे

महाराष्ट्र में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है। उनकी गिरफ्तारी के लिए रत्नागिरी के चिपलुन के लिए पुलिस की टीम रवाना हो चुकी है। इस बात की पुष्टि पुणे पुलिस कमिश्नर ने की है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ बयान देने के बाद केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी।

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को अरेस्ट करने निकली पुलिस 

महाराष्ट्र में केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के खिलाफ पुणे सिटी के चतुर्श्रिंगी पुलिस थाने में एफ आई आर दर्ज की गई थी। यह एफआईआर युवा सेना की शिकायत के बाद दर्ज की गई। सीएम उद्धव ठाकरे के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने के लिए राणे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153 और 505 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है।

बीजेपी नेता नारायण राणे की गिरफ्तारी के लिए डीसीपी लेवल के अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। आदेश में लिखा गया है कि नारायण केंद्रीय मंत्री हैं और राज्यसभा सांसद भी हैं। इसलिए उपराष्ट्रपति को सूचित कर पूरी प्रक्रिया का पालन करें। नासिक पुलिस, नासिक साइबर और पुणे पुलिस में नारायण राणे के खिलाफ केस दर्ज है।

उनके खिलाफ कुल 36 एफआईआर दर्ज हैं 

इससे पहले मुंबई में 2 दिन की तिरंगा यात्रा में उनके खिलाफ कुल 36 एफआईआर दर्ज की गई है। नारायण राणे के खिलाफ पहले दिन 19 एफआईआर दर्ज की गई और दूसरे दिन 17 दर्ज की गई थी।

मंत्री राणे का ब्यान 

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने सोमवार को एक बयान में कहा कि सभी व्यवसाय आज त्रस्त हैं। अगले 10 साल तक लोग अपना सिर दोबारा ऊपर नहीं कर सकते। यह केवल उद्धव ठाकरे की वजह से हुआ है। उनकी वजह से महाराष्ट्र में 157000 लोगों की कोरोना के कारण मौत  हुई है। ना वैक्सीन है, ना स्टाफ है, ना डॉक्टर और कुछ नहीं है।

एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने क्या कहा ?

नारायण राणे की टिप्पणी पर एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा,” जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल नारायण राणे ने किया है, वह ना सिर्फ मुख्यमंत्री का अपमान है बल्कि राज्य की जनता का भी अपमान है। मुख्यमंत्री के लिए इस तरह की भाषा बर्दाश्त नहीं की जा सकती है ।”

मैं कोई आम आदमी नहीं हूं: राणे 

दूसरी तरफ नारायण राणे ने अपने गिरफ्तारी के आदेश को लेकर कहा ,” मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। मैं कोई आम आदमी नहीं हूं। मैंने कोई अपराध नहीं किया है। 15 अगस्त के बारे में कोई नहीं जानता तो क्या यह अपराध नहीं है? मैंने कहा था कि मैं थप्पड़ मार देता- ये शब्द थे और यह अपराध नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here