जैश सरगना मसूद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र संघ ने किया वैश्विक आतंकवादी घोषित

चीन ने वैश्विक आतंकवादी के रूप में मसूद अज़हर पर अपनी तकनीकी पकड़ को हटाया। पाकिस्तान ने भी कोई आपत्ति नही जताई।

जैश-ऐ-मोहम्मद प्रमुख मसूद अज़हर को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर दिया गया है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने मसूद अज़हर का नाम ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है। भारत काफी लम्बे समय से मसूद को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने की मांग करता रहा है। मुंबई में हुए 26/11 और पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड मौलाना मसूद अज़हर ही है। मसूद अज़हर का जन्म पाकिस्तान का बहावलपुर में 1968 को हुआ था। ग्यारह भाई-बहनों में मसूद का दसवां नंबर है। जैश से पहले मसूद का संबंध हरकत-उल-अंसार से भी रहा है। मसूद के पिता सरकारी स्कूल में हेडमास्टर थे। मसूद अज़हर को पहली बार 1994 में गिरफ्तार किया गया था। कंधार विमान अपहरण कांड के बाद मौलाना मसूद अज़हर ,मुस्ताक जरगर और शेख अहमद उमर सईद की रिहाई की मांग की गई थी ,और इनको छोड़ दिया गया था।

मसूद अज़हर ने जेल से छूटने का बाद साल 2000 में जैश-ऐ-मोहम्मद नामक आतंकी संगठन की नीवं रखी जिसका मकसद भारत में दहशत फैलाना और आतंकी घटनाओं को अंजाम देना। साल 2001 में भारत की संसद पर हमला हुआ जिसके पीछे आतंकी संगठन जैश का हाथ था। हालांकि इस हमले के बाद पाकिस्तान में उसे गिरफ्तार लेकिन सबूतों के अभाव में लाहौर हाई कोर्ट ने उसको छोड़ने के आदेश दिए।

आज भारत के लिए एक बड़ी कूटनीतिक जीत का दिन है। आखिकार तमाम कोशिशों के बाद भारत मौलान मसूद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा वैश्विक आतंकवादी घोषित करवाने में सफल रहा। मसूद अज़हर नाम वैश्विक आतंकवादी लिस्ट घोषित करने की पुष्टि भारत के राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने ट्वीट करते हुए की। उन्होंने ट्वीटर प् लिखा ,” “बड़े, छोटे, सभी एक साथ शामिल होते हैं। मसूद अजहर को @UN प्रतिबंध सूची में एक आतंकवादी के रूप में नामित किया गया है। उनके समर्थन के लिए सभी का आभारी हूं। ”

Comments

Translate »