कौन है प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ? जिसने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाक पीएम इमरान खान को बेनकाब किया

0
कौन है प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ? जिसने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाक पीएम इमरान खान को बेनकाब किया
फोटोः स्नेहा दुबे

स्नेहा दुबे ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को फटकार लगाते हुए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाक की पोल खोल दी। संयुक्त राष्ट्र में प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने पाकिस्तान के कश्मीर का राग अलापने के आरोपों को झूठा और गलत करार दिया। स्नेहा दुबे की अंतरराष्ट्रीय पटल पर खूब चर्चा हो रही है।

प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने इमरान खान को फटकार लगाते हुए पाकिस्तान सरकार की पोल खोल दी है।उन्होंने कहा कि यह पहला मौका नहीं है जब पाकिस्तान नेता ने अंतरराष्ट्रीय मंच का इस्तेमाल कर मेरे देश के खिलाफ झूठा और गलत प्रचार करने के लिए किया है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद का हिमायती है। मोस्ट वांटेड आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान में पनाह मिली थी तो वह उसे शहीद का दर्जा देता है। वह अपने घर में आतंकी सिर्फ इसलिए पालता है ताकि वह अपने पड़ोसियों को नुकसान पहुंचा सके।  हम सुनते रहते हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद का शिकार है। आग लगाने वाला पाकिस्तान नकाब पहन कर खुद को फायर फाइटर बता रहा है।

अंतरराष्ट्रीय पटल पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को फटकार लगाने वाली स्नेहा दुबे साल 2012 बैच की आईपीएस अधिकारी है। उन्होंने पहले ही प्रयास में यूपीएससी में सफलता हासिल की थी। आईएएस बनने के बाद उन्हें विदेश मंत्रालय में नियुक्त किया गया। 2014 में भारतीय दूतावास मेड्रिड भेजा गया। वर्तमान में स्नेहा दुबे संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव है। स्नेहा ने जेएनयू से पढ़ाई की है। उन्होंने यहां से औरएमफिल किया। स्नेह की शुरुआती शिक्षा गोवा में हुई फिर पुणे के फ़र्ग्यूशन कॉलेज से स्नातक किया। उनके परिवार में वह पहली सिविल सेवा अधिकारी है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने कहा कई देशों को यह जानकारी है कि पाकिस्तान का आतंकियों को पनाह देने में आज सक्रिय रूप से समर्थन देने का इतिहास रहा है। यह उनकी नीति है। यह एक ऐसा देश है जिसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकियों को समर्थन देने, हथियार उपलब्ध कराने और आर्थिक मदद करने के रूप में पहचान मिली है।

स्नेहा दुबे ने कहा कि पूरी दुनिया को पाकिस्तान की नीतियों के कारण भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। क्योंकि पाकिस्तान आतंकवादियों को पालता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के नेताओं द्वारा भारत के आंतरिक मामलों को विश्व मंच पर लाने और झूठ फैला कर इस प्रतिष्ठित मंच की छवि खराब करने के एक और प्रयास के प्रत्युत्तर में हम जवाब देने के लिए अपने अधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं। भारतीय युवा राजनयिक ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76 वे  सेशन में एक बार फिर कश्मीर का राग अलापने वाले पाकिस्तान की कड़ी निंदा करते हुए कहा इस तरह के बयान देने वालों और झूठ बोलने वालों की सामूहिक तौर पर निंदा की जानी चाहिए। ऐसे लोग अपनी मानसिकता के कारण सहानुभूति के पात्र हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here