NASA के इनसाइट लैंडर ने मंगल ग्रह की सतह को छुआ

पिछले कई दशक से नासा दूसरे ग्रहों  पर जीवन की तलाश में शोध करता आ रहा है। मंगल ग्रह पर वर्ष २०३० में धरती से लोगों को भेजकर वहां बसने की उम्मीद को आज पहली सफलता मिली है। 

सात महीने की अंतरिक्ष में लंबी यात्रा के बाद NASA इनसाइट लैंडर ने मंगल ग्रह की सतह को छुआ। सतह को छूने के कुछ मिनट  बाद इनसाइट ने नासा को संकेत भेजकर बता दिया कि  वो बिलकुल सही सलामत से अपने मिशन पर पहुंच गया है। साथ में मंगल ग्रह की सतह की फोटो भी भेजी जहां पर वो सुरक्षित लैंड हुआ।

इनसाइट के मंगल ग्रह पर सकुशल पहुंचने की खबर मिलते ही नासा की मिशन जेट प्रोपल्सन  प्रयोगशाला में जश्न का माहौल देखने को मिला। इनसाइट की मंगल ग्रह  लैंडिंग को दुनियाभर में लोगों ने देखा।इसका सीधा प्रसारण न्यू यॉर्क शहर के टाइम्स स्कवायर  में नैस्डेक स्टॉक मार्किट के टॉवर से  किया गया।

इनसाइट की लैंडिंग से पहले नासा ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर अंतरिक्ष यात्रियों की टीम को बधाई देने के लिए बुलाया। ये दृश्य वास्तव में ख़ुशी से रोंगटे खड़े कर  देने वाला था,जब इनसाइट ने सात माह की लंबी यात्रा के बाद मंगल ग्रह की सतह को छुआ।

नासा के प्रशासनिक अधिकारी जिम ब्रिडेनस्टीन कहा ,आज हम आठवीं बार सफलतापूर्वक मंगल ग्रह की सतह पर उतर गए हैं। इनसाइट  महत्वपूर्ण जानकारियां भेजेगा जिससे हम  चाँद और मंगल पर अपने अंतरिक्ष यात्रियों को भेज सकेंगे। इनसाइट मंगल ग्रह की सतह में खुदाई कर  भूकंप जैसी जानकारियों को एकत्रित कर प्रयोगशाला में भेजेगा। इनसाइट मंगल ग्रह पर दो सालतक विभिन्न प्रकार की जांच करेगा।

इनसाइट ने मंगल ग्रह पर पहुंचने के लिए ६२०० मील प्रति घंटे की गति से ३०१ २२३ ९८१ मील  की दूरी  तय की है। 

न्यूज़ एजेंसी सीएनएन  के हवाले से दी गई खबर के अनुसार,इनसाइट के प्रोजेक्ट मैनेजर टॉम हॉफमैन  ने कहा  कि  जब पूरा देश  अपने दोस्तों और परिवार के साथ थैंक्सगिविंग त्यौहार का आनंद ले रहा था उस समय इनसाइट प्रोजेक्ट की टीम लैंडिंग की अंतिम तैयारी कर  रही थी।

कैसे उतारा  इनसाइट?

मंगल ग्रह की सतह पर पहुंचते ही हीट शील्ड की मदद से पैराशूट को खोला गया। जिससे इनसाइट की गति कम हो गई। राडार को सतह से दुरी समझने के लिए सक्रिय कर  दिया गया। राडार से संकेत समझने के बाद यह बाकी हिस्से और पैराशूट से अलग हो गया। इनसाइट के मुख्य इंजन की गति को धीमा किया गया। इनसाइट के तीनों पैरों की मदद से इसे मंगल की सतह पर उतारा  गया।

Comments

Translate »